विजय और पुजारा की जवाबी शतकीय स्ट्राइक

  • विजय और पुजारा की जवाबी शतकीय स्ट्राइक
You Are HereCricket
Friday, November 11, 2016-5:18 PM

राजकोटः ओपनर मुरली विजय (126) और श्रीमान भरोसेमंद चेतेश्वर पुजारा (124) के शानदार शतकों तथा उनके बीच दूसरे विकेट के लिए 209 रन की जबरदस्त साझेदारी की बदौलत भारत ने इंगलैंड को करारा जवाब देते हुए पहले क्रिकेट टेस्ट के तीसरे दिन शुक्रवार को 4 विकेट पर 319 रन का मजबूत स्कोर बना लिया।  

भारत अभी इंग्लैंड के 537 रन के स्कोर से 218 रन पीछे है और उसके छह विकेट बाकी हैं। भारत ने दिन के आखिरी दो ओवरों में विजय और नाइटवाचमैन अमित मिश्रा के विकेट गंवाए। वरना भारत 2 विकेट पर 318 रन की बेहद मजबूत स्थिति में था।   विजय ने अपने करियर का सातवां और पुजारा ने नौवां शतक बनाया। विजय ने 301 गेंदों पर 126 रन में 9 चौके और 4 छक्के उड़ाए जबकि पुजारा ने 206 गेंदों पर 124 रन में 17 चौके लगाए। तीसरे दिन स्टम्प्स के समय कप्तान विराट कोहली 70 गेंदों पर 3 चौकों की मदद से 26 रन बनाकर क्रीज पर थे। 

तीसरे सत्र के पहले आेवर में इंगलैंड के रेफरल से बचने वाले विजय पर भी इससे जोश चढ़ा। उन्होंने मोइन अली पर अपनी पारी का तीसरा छक्का लगाया और फिर स्टुअर्ट ब्राड (54 रन देकर एक विकेट) पर लगातार दो चौके जड़कर अपना सातवां टेस्ट शतक पूरा किया। विजय का यह लगातार 16 पारियों के बाद पहला और इंगलैंड के खिलाफ दूसरा शतक है।  भारतीय क्रिकेट बोर्ड का इस श्रृंखला में निर्णय समीक्षा प्रणाली का उपयोग करने का पहला फायदा पुजारा को मिला। वह जब 86 रन पर थे तब जफर अंसारी (57 रन देकर एक विकेट) की गेंद पर अंपायर क्रिस गैफेनी ने उन्हें पगबाधा आउट दे दिया था। उन्होंने विजय के साथ मशविरा करने के बाद रेफरल लिया और ‘बाल ट्रैकर’ से पता चला कि गेंद विकेट के ऊपर से निकल रही थी। पुजारा के अलावा विजय का भी भाग्य ने साथ दिया। वह जब 66 रन पर थे तब ब्राड की गेंद पर कवर पर खड़े हसीब हमीद उनका कैच नहीं ले पाये थे। इसके बाद तीसरे सत्र के पहले आेवर में जब वह 86 रन पर थे तब इंगलैंड ने मोईन अली की गेंद पर उनके खिलाफ रेफरल लिया था।  

पुजारा की तुलना में विजय धीमा खेले लेकिन उन्होंने मौका मिलने पर कुछ लंबे शाट भी लगाए। पहले सत्र में जब मोईन की जगह बाएं हाथ के स्पिनर जफर अंसारी ने गेंद सभाली तो विजय ने लांग आन पर छक्का जड़कर उनका स्वागत किया। उन्होंने अंसारी और मोईन दोनों पर दो-दो छक्के लगाए। यह साझेदारी आखिर में बेन स्टोक्स (39 रन देकर एक विकेट) ने तोड़ी जिन्हें इससे पहले पुजारा ने अपने खास निशाने पर रखा था। स्टोक्स बाद में इसका बदला चुकता करने में सफल रहे। एलिस्टेयर कुक ने नई गेंद से ब्राड और वोक्स के अलावा स्पिनरों को आजमाने के बाद स्टोक्स को गेंद सौंपी। उनकी पहली गेंद ही शार्ट पिच थी जिसे पुजारा ने स्लिप में खड़े कुक की तरफ खेल दिया जिन्होंने कैच लेने में गलती नहीं की। 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You