ताइवान पहुंची अमेरिकी स्पीकर नैंसी पेलोसी, चीन की धमकी- अंजाम भुगतने को तैयार रहे US

Edited By Tanuja,Updated: 02 Aug, 2022 09:00 PM

china us tensions escalate over nancy pelosi s taiwan visit

अमेरिकी सदन की अध्यक्ष नैन्सी पेलोसी ताइवान पहुंच चुकी हैं। मंगलवार को नैन्सी पेलोसी मलेशिया से रवाना हुईं थी और इसके बाद वह अब ताइवान पहुंची हैं। ताइवान के विदेश मंत्री खुद नैन्सी पेलोसी को रसीव करने पहुंचे। दूसरी ओर नैन्सी पेलोसी के ताइवान पर...

इंटरनेशनल डेस्कः अमेरिकी सदन की अध्यक्ष नैन्सी पेलोसी ताइवान पहुंच चुकी हैं। मंगलवार को नैन्सी पेलोसी मलेशिया से रवाना हुईं थी और इसके बाद वह अब ताइवान पहुंची हैं। ताइवान के विदेश मंत्री खुद नैन्सी पेलोसी को रसीव करने पहुंचे। दूसरी ओर उनका प्लेन ताइपे के एयरपोर्ट पर उतरते ही चीन और बौखला गया है। चीन ने अमेरिका को चेतावनी देते हुए कहा कि गंभीर परिणाम भुगतने को तैयार रहे अमेरिका। चीन का कहना है कि यह अमेरिका का गलत कदम है। अमेरिका इससे पहले भी गलती कर चुका है और बार-बार अपनी गलतियों को दोहरा रहा है। 


ताइवान पहुंचने पर नैन्सी पेलोसी और कांग्रेस डेलिगेशन की तरफ से बयान सामने आया है। बयान में लिखा गया है कि यूनाइटेड स्टेट्स हाउस ऑफ रिप्रेजेंटेटिव्स के स्पीकर द्वारा 25 साल में यह पहला दौरा है। वह ताइवान के जीवंत लोकतंत्र का समर्थन करती हैं। बयान में आगे लिखा गया है कि यह ट्रिप सिर्फ इंडो-पेसेफिक बॉर्डर ट्रिप का हिस्सा है। सिंगापुर, मलेशिया, साउथ कोरिया और जापान भी इसका हिस्सा हैं।

दरअसल, अमेरिकी सदन की अध्यक्ष नैन्सी पेलोसी के एशिया दौरे को लेकर चीन तिलमिलाया बैठा है। इस यात्रा के कारण  बीजिंग और अमेरिका के बीच तनाव चरम पर जा पहुंचा है बढ़ गया है क्योंकि चीन स्वशासित द्वीप पर अपना कब्जा होने का दावा करता है। एक अधिकारी ने नाम न छापने की शर्त पर कहा कि पेलोसी और उनके प्रतिनिधिमंडल को ले जाने वाला विमान मलेशियाई वायु सेना के अड्डे से एक संक्षिप्त ठहराव के बाद रवाना हुआ । अधिकारी ने कहा  वह मीडिया को विवरण जारी करने के लिए अधिकृत नहीं है।

नैंसी पेलोसी इस हफ्ते एशियाई दौरे पर हैं। उनकी यात्रा पर करीब से नजर रखी जा रही है कि क्या वह ताइवान का दौरा करने के खिलाफ चीन की चेतावनियों की अवहेलना करेंगी। यह स्पष्ट नहीं था कि वह मलेशिया से कहां जा रही हैं, लेकिन ताइवान में स्थानीय मीडिया ने बताया कि वह मंगलवार रात पहुंचेगी, और 25 से अधिक वर्षों में यात्रा करने के लिए सर्वोच्च रैंकिंग वाली निर्वाचित अमेरिकी अधिकारी बन जाएंगी।ताइवान के तीन सबसे बड़े राष्ट्रीय समाचार पत्रों द यूनाइटेड डेली न्यूज, लिबर्टी टाइम्स और चाइना टाइम्स ने अज्ञात स्रोतों का हवाला देते हुए कहा कि वह ताइवान में रात बिताएंगी।

ताइवान के विदेश मंत्रालय ने इस बारे में  टिप्पणी करने से इंकार कर दिया है। ताइवान की राष्‍ट्रपति सु त्सेंग-चांग ने नैंसी पेलोसी की यात्रा की स्पष्ट रूप से पुष्टि नहीं की, लेकिन मंगलवार को कहा कि किसी भी विदेशी मेहमान और मैत्रीपूर्ण सांसदों का बहुत-बहुत स्वागत है। बता दें कि चीन ताइवान को अलग देश मानने से इंकार करता है। उसका कहना है कि यदि आवश्यक हो तो सुरक्षा बलों द्वारा ताइवान पर कब्जा कर लिया जाएगा। नैंसी पेलोसी की दौरे पर उसने बार-बार जवाबी कार्रवाई की चेतावनी दी है। उसका कहना है कि उसकी सेना कभी भी आलस्य से नहीं बैठेगी।

चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता हुआ चुनयिंग ने मंगलवार को बीजिंग में संवाददाताओं से कहा कि अमेरिका और ताइवान ने पहले उकसावे के लिए मिलीभगत की है। चीन को केवल आत्मरक्षा के लिए कार्रवाई करने के लिए मजबूर किया गया है। हुआ ने कहा कि चीन अमेरिका के साथ लगातार संपर्क में है। स्पष्ट किया है कि अगर यह यात्रा वास्तव में होती है तो यह कितना खतरनाक होगी। उन्होंने कहा कि चीन द्वारा उठाए गए कोई भी जवाबी कदम वाशिंगटन के 'बेईमानी व्यवहार' के सामने उचित और आवश्यक होंगे। वहीं संयुक्त राज्य अमेरिका ने सोमवार को कहा कि वह पैलोसी की यात्रा पर चीनी तलवार की खड़खड़ाहट से नहीं डरेगा। सूत्र ने बताया कि मंगलवार की सुबह संवेदनशील जलमार्ग की मध्य रेखा के करीब उड़ान भरने वाले चीनी विमानों के अलावा कई चीनी युद्धपोत सोमवार से अनौपचारिक विभाजन रेखा के करीब थे।

 

Related Story

Trending Topics

West Indies

137/10

26.0

India

225/3

36.0

India win by 119 runs (DLS Method)

RR 5.27
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!