'राजस्व बढ़ाने के लिए कर कानूनों में संशोधन नहीं करना चाहिए'

  • 'राजस्व बढ़ाने के लिए कर कानूनों में संशोधन नहीं करना चाहिए'
You Are HereBusiness
Tuesday, October 22, 2013-6:55 AM

नई दिल्ली: वोडाफोन के ब्याज सहित 11,200 करोड़ रुपए की कर देनदारी तथा कर अधिकारियों के बीच लम्बे समय से लंबित विवाद के बीच वित्तमंत्री के सलाहकार पार्थसारथी सोम ने आज कहा कि सरकार को राजस्व बढ़ाने के लिए कर कानूनों में पिछली तारीख से संशोधन नहीं करना चाहिए।

सोम ने कहा, ‘‘3 शर्तों पर ही पूर्व की तारीख से बदलाव किया जा सकता है। एक जब कुछ स्पष्ट करना है, दूसरे गलतियों को ठीक करने तथा तीसरा वास्तव में बहुत ही खराब कर ढांचे में सुधार के लिए लेकिन इसे राजस्व अर्जन के रूप में इस्तेमाल नहीं किया जा सकता।’’

सोम ने यह भी कहा कि पिछली तारीख से बदलाव के लिए सरकार को दोष नहीं दिया जा सकता और इस तरह के किसी भी मामले में संतुलित दृष्टिकोण की जरूरत होती है। सरकार ने आयकर कानूनों में पिछली तिथि से संशोधन मामलों में उपजी स्थिति से निपटने के लिए सोम की अध्यक्षता में एक समिति का गठन किया था। 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You