नक्सलियों की चेतावनी से यूरेनियम खदान में उत्पादन बाधित

  • नक्सलियों की चेतावनी से यूरेनियम खदान में उत्पादन बाधित
You Are HereBusiness
Saturday, January 25, 2014-5:26 PM

जमशेदपुर: नक्सलियों की धमकी से झारखंड के पूर्वी सिंहभूम जिले के बागजाता स्थित यूरेनियम कारपोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड (यूसिल) की भूमिगत खदान में उत्पादन बाधित हो रहा है। देश की इस इकलौती यूरेनियम उत्खनन कंपनी के अध्यक्ष सह प्रबंध निदेशक (सीएमडी) दिवाकर आचार्य ने आज यहां से लगभग 25 किमी दूर नरवापहाड़ में पत्रकारों से बातचीत में स्वीकार किया किया कि लगभग 500 टन प्रतिदिन अयस्क उत्पादन क्षमता वाली इस खदान में नक्सलियों की चेतावनी और संबंधित सुरक्षा चिंताओं के चलते खनन कार्य पर प्रतिकूल असर पड़ रहा है।

ज्ञातव्य है कि नक्सलियों ने यूसिल की झारखंड स्थित सभी सात खदानों में विस्थापितों को नौकरी देने और खनिकों के अन्य अधिकारों समेत कई मांगों को लेकर चार माह पूर्व से पोस्टर चिपकाना शुरू किया था। उन्होंने 31 दिसंबर तक उचित कार्रवाई नहीं करने पर परिणाम भुगतने की चेतावनी दी थी। उन्होंने 2008 में शुरू हुए बागजाता खदान से अयस्क ढोने वाले वाहनों पर भी चेतावनी भरे पोस्टर चिपकाए थे जिससे ढुलाई कार्य भी बुरी तरह प्रभावित हुआ है।

आचार्य ने कहा कि वह इस मामले में बल प्रयोग की बजाय इसे आपसी बातचीत और आसपास के समुदाय के प्रति अपने कारपोरेट दायित्वों के बेहतर निर्वहन के जरिए सुलझाने के पक्षधर हैं। इस बीच आधिकारिक सूत्रों बताया कि आण्विक ऊर्जा विनिमय बोर्ड (एईआरबी) के नियमों मुताबिक अधिक से अधिक 5000 टन यूरेनियम अयस्क ही खदान के पास जमा किया जा सकता है। ट्रांसपोर्टरों के नक्सलियों के डर से हाथ खड़े करने और उक्त नियम के चलते कई बार उत्पादन को रोकना पड़ रहा है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You