कंपनी रिजल्ट्सः जानें किस कंपनी को कितना हुआ मुनाफा?

You Are HereResults Company
Tuesday, October 25, 2016-6:01 PM

नई दिल्लीः वित्त वर्ष 2017 की दूसरी तिमाही में अरविंद का मुनाफा 1.5 फीसदी बढ़कर 71.7 करोड़ रुपए हो गया है। वित्त वर्ष 2016 की दूसरी तिमाही में अरविंद का मुनाफा 70.6 करोड़ रुपए रहा था। वित्त वर्ष 2017 की दूसरी तिमाही में अरविंद की आय 19.1 फीसदी बढ़कर 2331 करोड़ रुपए पर पहुंच गई है। वित्त वर्ष 2016 की दूसरी तिमाही में अरविंद की आय 1957.1 करोड़ रुपए रही थी।

साल दर साल आधार पर जुलाई-सितंबर तिमाही में अरविंद का एबिटडा 227.7 करोड़ रुपए से बढ़कर 232.3 करोड़ रुपए रहा है। सालाना आधार पर जुलाई-सितंबर तिमाही में अरविंद का एबिटडा मार्जिन 11.6 फीसदी से घटकर 10 फीसदी रहा है। सालाना आधार पर दूसरी तिमाही में अरविंद के ब्रांडेड अपैरल कारोबार की आय 566 करोड़ रुपए से बढ़कर 752 करोड़ रुपए रही है।

अरविंद ने कहा कि 740 करोड़ रुपए जुटाने के लिए अरविंद फैशंस में 10 फीसदी हिस्सेदारी बेची जाएगी। अरविंद फैशंस का वैल्युएशन 8000 करोड़ रुपए आंका गया है। अरविंद फैशंस में 10 फीसदी हिस्सेदारी रेणुका रामनाथ की पीई फर्म को बेची जाएगी। रेणुका रामनाथ के पीई फर्म का नाम मल्टीपल इक्विटी है।

एच.डी.एफ.सी. बैंक का मुनाफा 20 प्रतिशत बढ़ा 
निजी क्षेत्र के एच.डी.एफ.सी. बैंक को चालू वित्त वर्ष की 30 सितंबर को समाप्त दूसरी तिमाही में एकल आधार पर 3,455.33 करोड़ रुपए का शुद्ध मुनाफा हुआ है जो पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही के 2,869.45 करोड़ रुपए से 20.42 प्रतिशत अधिक है। बैंक ने आज जारी परिणाम में बताया कि आलोच्य तिमाही के दौरान उसकी कुल एकल आय भी पिछले वित्त वर्ष के 17,324.28 करोड़ रुपए से 15.28 फीसदी बढ़कर 19,970.89 करोड़ रुपए पर पहुंच गई है। इस दौरान बैंक की संपत्ति की गुणवत्ता में मामूली गिरावट दर्ज की गई है। उसकी सकल गैर-निष्पादित परिसंपत्ति (एन.पी.ए.) 0.91 फीसदी से बढ़कर 1.02 फीसदी हो गई है। उसका शुद्ध एन.पी.ए. भी 0.25 प्रतिशत से बढ़कर 0.30 प्रतिशत हो गया है।

डॉ रेड्डीज का मुनाफा घटा 
डॉ रेड्डीज लैब का सितंबर में समाप्त दूसरी तिमाही का एकीकृत शुद्ध लाभ 60.12 प्रतिशत घटकर 30.89 करोड़ रुपए रह गया। मुख्य रूप से वेनेजुएला तथा उत्तरी अमरीका में बिक्री घटने से कंपनी का मुनाफा घटा है। इससे पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में कंपनी ने 77.47 करोड़ रुपए का शुद्ध लाभ कमाया था। बंबई शेयर बाजार को भेजी सूचना में कंपनी ने कहा कि तिमाही के दौरान एकीकृत आधार पर उसकी परिचालन से कुल आय 10.05 प्रतिशत बढ़कर 361.63 करोड़ रुपए पर पहुंच गई, जो इससे पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में 402.07 करोड़ रुपए रही थी। तिमाही के दौरान कंपनी का कुल खर्च 4.49 प्रतिशत बढ़कर 325.15 करोड़ रुपए पर पहुंच गया, जो एक साल पहले समान तिमाही में 311.17 करोड़ रुपए था।

अदानी पोर्ट्स के मुनाफे में 63.6% की बढ़ौतरी
वित्त वर्ष 2017 की दूसरी तिमाही में अदानी पोर्ट्स का मुनाफा 63.6 फीसदी बढ़कर 1091 करोड़ रुपए हो गया है। वित्त वर्ष 2016 की दूसरी तिमाही में अदानी पोर्ट्स का मुनाफा 667 करोड़ रुपए रहा था। वित्त वर्ष 2017 की दूसरी तिमाही में अदानी पोर्ट्स की आय 18.5 फीसदी बढ़कर 2183 करोड़ रुपए पर पहुंच गई है। वित्त वर्ष 2016 की दूसरी तिमाही में अदानी पोर्ट्स की आय 1842 करोड़ रुपए रही थी। साल दर साल आधार पर जुलाई-सितंबर तिमाही में अदानी पोर्ट्स का एबिटडा 1178 करोड़ रुपये से बढ़कर 1451 करोड़ रुपए रहा है। सालाना आधार पर जुलाई-सितंबर तिमाही में अदानी पोर्ट्स का एबिटडा मार्जिन 65.2 फीसदी से बढ़कर 66.5 फीसदी रहा है। जुलाई-सितंबर तिमाही में अदानी पोर्ट्स का कार्गो वॉल्यूम 17 फीसदी बढ़ा है।

एशियन पेंट्स के मुनाफे में 18.1% की बढ़ौतरी
वित्त वर्ष 2017 की दूसरी तिमाही में एशियन पेंट्स का मुनाफा 18.1 फीसदी बढ़कर 495 करोड़ रुपए हो गया है। वित्त वर्ष 2016 की दूसरी तिमाही में एशियन पेंट्स का मुनाफा 419 करोड़ रुपए रहा था। वित्त वर्ष 2017 की दूसरी तिमाही में एशियन पेंट्स की आय 10.2 फीसदी बढ़कर 4232 करोड़ रुपए पर पहुंच गई है। वित्त वर्ष 2016 की दूसरी तिमाही में एशियन पेंट्स की आय 3839.7 करोड़ रुपए रही थी। साल दर साल आधार पर जुलाई-सितंबर तिमाही में एशियन पेंट्स का एबिटडा 608 करोड़ रुपए से बढ़कर 713 करोड़ रुपए रहा है। सालाना आधार पर जुलाई-सितंबर तिमाही में एशियन पेंट्स का एबिटडा मार्जिन 15.8 फीसदी से बढ़कर 16.8 फीसदी रहा है।

कोटक महिंद्रा बैंक का मुनाफा 42.8% बढ़ा
वित्त वर्ष 2017 की दूसरी तिमाही में कोटक महिंद्रा बैंक का स्टैंडअलोन मुनाफा 42.8 फीसदी बढ़कर 813 करोड़ रुपए हो गया है। वित्त वर्ष 2016 की दूसरी तिमाही में कोटक महिंद्रा बैंक का स्टैंडअलोन मुनाफा 569.5 करोड़ रुपए रहा था। वित्त वर्ष 2017 की दूसरी तिमाही में कोटक महिंद्रा बैंक की स्टैंडअलोन ब्याज आय 18.9 फीसदी बढ़कर 1995.3 करोड़ रुपए पर पहुंच गई है। वित्त वर्ष 2016 की दूसरी तिमाही में कोटक महिंद्रा बैंक की ब्याज आय 1678.7 करोड़ रुपए रही थी। तिमाही दर तिमाही आधार पर जुलाई-सितंबर तिमाही में कोटक महिंद्रा बैंक का स्टैंडअलोन ग्रॉस एन.पी.ए. 2.5 फीसदी से घटकर 2.49 फीसदी रहा है। तिमाही आधार पर जुलाई-सितंबर तिमाही में कोटक महिंद्रा बैंक का स्टैंडअलोन नेट एन.पी.ए. 1.21 फीसदी से घटकर 1.2 फीसदी रहा है।

आई.डी.बी.आई. बैंक का शुद्ध लाभ 53 प्रतिशत घटा  
सार्वजनिक क्षेत्र के आई.डी.बी.आई. बैंक का मौजूदा वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में शुद्ध लाभ 53 प्रतिशत घटकर 55.52 करोड़ रुपए रह गया। पिछले वित्त वर्ष की जुलाई-सितंबर तिमाही में यह 119.5 करोड़ रुपए था। कंपनी का लाभ घटने के पीछे अहम वजह फंसे हुए कर्ज का प्रावधान बढ़ाना है। बैंक ने एक बयान में कहा कि आलोच्य अवधि में बैंक की कुल आय बढ़कर 8,387.20 करोड़ रुपए रही जो पिछले वित्त वर्ष की इसी अवधि में 7,913.64 करोड़ रुपए थी। इस दौरान बैंक की सकल गैर-निष्पादित आस्तियां लगभग दुगनी हो गई। पिछले वित्त वर्ष की इस अवधि में यह उसके सकल ऋण का 6.92 प्रतिशत थी जो  अब 13.05 प्रतिशत हो गई।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You