नहीं रहे कपिल के कोच

  • नहीं रहे कपिल के कोच
You Are HereChandigarh
Saturday, August 17, 2013-8:26 AM

चंडीगढ़: 1983 विश्व कप विजेता भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान कपिल देव को बुलंदियों पर पहुंचाने वाले उनके कोच व द्रोणाचार्य अवार्डी पूर्व क्रिकेटर देश प्रेम आजाद की शुक्रवार को हृदय गति रुकने से मौत हो गई। डी.पी. आजाद (75) की तबीयत बिगडऩे पर मोहाली फेज-6 के निजी अस्पताल में भर्ती करवाया गया था। जहां करीब 1 बजे उनकी मौत हो गई।

डी.पी. आजाद को गले में दर्द के बाद 26 जून से 8 जुलाई तक पी.जी.आई. में दाखिल करवाया गया था। स्वास्थ्य ठीक होने के बाद वह घर आ गए थे लेकिन 15 अगस्त को गले में दोबारा दर्द होने के कारण उनको मोहाली के एक निजी अस्पताल ले जाया गया। बेटे मनीष अग्रवाल ने बताया कि शुक्रवार सुबह आजाद बिल्कुल ठीक थे लेकिन हार्ट अटैक होने के कारण उन्होंने दोपहर 1 बजे अंतिम सांस ली।

डी.पी. आजाद का जन्म 20 जनवरी 1938 को अमृतसर में हुआ था। डी.पी. आजाद ने कोचिंग करियर में शहर से कई बेहतरीन खिलाड़ी देश को दिए। जिनमें 1983 के विश्व कप विजेता कपिल देव, चेतन शर्मा, यशपाल शर्मा, अशोक मल्होत्रा, योगराज सिंह व यशपाल शर्मा यही नहीं उन्होंने कुछ समय के लिए हरभजन सिंह को भी प्रशिक्षण दिया है। डी.पी. आजाद देश के पहले क्रिकेटर थे। जिनको द्रोणाचार्य अवार्ड से सम्मानित किया गया था। डी.पी. आजाद ने अपने करियर में 19 मैच खेले थे।

अंतिम संस्कार में पहुंचेंगे कपिल

आजाद का अंतिम संस्कार शनिवार सुबह 11 बजे सैक्टर-25 श्मशानघाट में होगा। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार कपिल देव, चेतन शर्मा, अशोक मल्होत्रा, यशपाल शर्मा तथा कई खिलाड़ी उनके अंतिम दर्शन को पहुंचेंगे।

बेहतरीन पारी खेली : कपिल

कपिल देव ने डी.पी. आजाद की मौत पर गहरा दुख जताते हुए कहा कि उन्होंने बेहतरीन पारी खेलते हुए जिंदगी को अलविदा कहा है। कपिल ने कहा कि आजाद की भरपाई करना बेहद कठिन है। डी.पी. आजाद सिर्फ उनके कोच नहीं थे, बल्कि उनके साथ उनका पारिवारिक संबंध था। आज वह उनके जाने से काफी हताश हैं।

अनुशासन के थे पक्के

द्रणोचार्य अवार्डी डी.पी. आजाद से प्रशिक्षण प्राप्त कर चुके राष्ट्रीय स्तर के क्रिकेटर डेनियल बेनर्जी का कहना है कि डी.पी. आजाद अनुशासन के बड़े पक्के थे उन्होंने कहा कि मुझे आज भी वह दिन याद है जब कोई खिलाड़ी प्रैक्टिस के समय यदि मैदान में देरी से पहंचुने पर उसको वापिस भेज दिया जाता था या फिर ग्राऊंड के कई चक्कर लगवाते थे। उन्होंने कहा कि उनकी मृत्यू से मुझे काफी दुख हुआ है और मैं काफी हताश हूं। उन्होंने कहा कि वह एक बेहतरीन कोच थे और उनको खिलाडिय़ों को तराशने की कला थी।

बुरा दिन : मिल्खा

फ्लाइंग सिख के नाम से मशहूर मिल्खा सिंह ने डी.पी. आजाद की मृत्यू पर गहरा दुख वयक्त किया । उन्होंने कहा कि आज का दिन क्रिकेट जगत के लिए बुरा दिन है। क्रिकेट ने एक अनमोल हीरा खो दिया है। उन्होंने कोचिंग की दुनिया में विशेष योगदान दिया है और उन्होंने देश व शहर को कई महत्वपूर्ण व मैच जीताऊ खिलाड़ी भी दिए है।

काफी हताश हूं: युवराज

भारतीय टीम के आलराऊंडर युवराज सिंह द्रोणाचार्य अवार्डी डी.पी. आजाद की मृत्यु की खबर सुनकर काफी हताश हैं। उन्होंने कहा कि हम जैसे खिलाडिय़ों के लिए ही डी.पी. आजाद हमेशा मार्गदर्शन करते रहे हैं। उनके जाने से क्रिकेट जगत को काफी नुकसान हुआ है और इस  दुख की घड़ी में क्रिकेट जगत के साथ पूरा देश शोकाकुल है।

उनसे सीखी क्रिकेट : मोंगिया


मोंगिया ने बताया कि उन्होंने आजाद के नेतृत्व में काफी क्रिकेट सीखी है। डी.पी. के जाने से सिर्फ शहर का ही नहीं पूरे देश का नुक्सान है। मैंने जितने भी पल उनके साथ बिताए हैं वह मेरे लिए बहुत कीमती हैं।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You