आज इस विशेष पूजन से पाएं जीवन की समस्त समस्याओं से मुक्ति

  • आज इस विशेष पूजन से पाएं जीवन की समस्त समस्याओं से मुक्ति
You Are HereLent and Festival
Thursday, April 03, 2014-6:52 AM

चैत्र महीने के शुल्क पक्ष में जो चतुर्थी आती है उसे शास्त्रों में दमनक चतुर्थी कहकर संबोधित किया जाता है। इस चतुर्थी को चैत्र शुक्ल चतुर्थी और गणेश दमनक चतुर्थी भी कहा जाता है । दमनक चतुर्थी का त्योहारों और व्रतों में अपना अलग स्थान है अतः दमनक चतुर्थी पर किया जाने वाला व्रत श्री सिद्धिविनायक गणेश जी को प्रसन्न करने के लिए किया जाता है। शास्त्रों में श्री गणपति जी को विघ्नहरण भी कहा गया है तथा सभी देवी देवताओं में सबसे पहले श्री गणपति जी का ही पूजन करने का विधान है। इस चतुर्थी का संबंध दमन कारोपण परंपरा से है ।

दमनक चतुर्थी का महत्व:
चैत्र महीने की प्रतिपदा से अमावस तिथि तक के पक्ष में दमनक नाम के पौधे से विभिन्न देवों की पूजा का विधान है । इसी परंपरा के अनुरूप चैत्र शुक्लपक्ष के चौथे दिन भगवान सिद्धिविनायक की पूजा दमनक नाम के पौधे से करने का विधान है । इस दिन व्रत रखकर श्री गणपति जी का षोडशोपचार उपचार पूजन करने का विधान है उन्हें लड्डुओं का भोग लगाया जाता है । शास्त्र अनुसार इस दिन अगर गणपति जी पर दमनक पौधे के पत्तों से (आभाव में दूर्वा) पूजन किया जाए तो जीवन की हर समस्या दूर हो जाती है तथा मनोवांछित फल की प्राप्ति होती है ।

दमनक चतुर्थी व्रत कथा: शास्त्रीय दृष्टिकोण से इस व्रत से संबंधित एक कथा आती है । पुराणिक काल में एक राजा था, उनकी दो पत्नियां थी तथा दोनों रानियों से एक-एक पुत्र था । राजा के एक पुत्र का नाम गणेश और दूसरे का नाम दमनक था । दमनक जब भी अपने ननिहाल जाता, तब उसके मामा और मामियां उससे घर का काम करवाते और किसी काम में कमी रह जाने पर उसे पीटते भी थे । इसके विपरीत गणेश जब भी अपने ननिहाल में जाता, तब उसके ननिहाल में मामा और मामियां उसकी खूब खातिरदारी करते तदउपरांत जब दोनों भाई अपने घर वापिस आते तो दमनक ननिहाल से खाली हाथ ही आता जबकि गणेश अपनी ननिहाल से खूब मिठाई और सामान लाता ।

दमनक ननिहाल से लौटकर गुमसुम और चुपचाप रहता था इसके विपरीत गणेश अपने घर आकर अपनी ननिहाल की खूब तारीफ़ करता था । कुछ वर्षो बाद जब दोनों सौतेले भाई जवान हुए तो राजन ने दोनों का विवाह करवा दिया । दोनों सौतेले भाइयों की इक्कठी शादी हुई और दोनों की बहुएं आई । विवाह के बाद जब कभी दमनक अपने ससुराल जाता, तब उसके ससुराल वाले बहाना बनाकर उसे घुड़साल में सुला देते और खुद आराम से सोते इसके विपरीत गणेश जब जब अपने ससुराल जाता, तब उसके ससुराल वाले उसकी खूब आवभगत और खातिरदारी करते । दमनक जब कभी भी ससुराल से घर लौटता तो ख़ाली हाथ ही आता। जबकी गणेश जब ससुराल से घर आता, तब खूब सारा दान-दहेज लेकर आता ।

इन दोनों सौतेले भाइयों की हालत एक वृद्ध स्त्री देखती रहती थी । एक दिन शाम के वक्त भगवान शंकर और माता पार्वती संध्या फेरी लगाने और जगत की चिंता लेने के लिये निकले तो वह वृद्ध स्त्री हाथ जोड़कर उनके सामने खड़ी हो गई और उसने दमनक तथा गणेश का किस्सा उनको बताया और पूछा कि ऐसा क्या कारण है कि दमनक को ननिहाल और ससुराल में अपमान मिलता है। जबकि गणेश को दोनों जगह पर खुशामद मिलती है ।

भगवान शंकर तो त्रिकालदर्शी हैं उन्होंने वृद्ध स्त्री से कहा,"गणेश ने तो अपने पूर्व जन्म में जो ननिहाल से मामा और मामी से लिया था उसे वह मामा और मामी की संतान को वापस कर आया था । ससुराल से जो मिला था, वह साले और सलहज की संतान को वापस कर आया था इसलिए उसकी इस जन्म में भी खूब खुशामद होती है, जबकि दमनक अपनी ननिहाल पक्ष से लेकर आता ज़रूर था लेकिन उनके घर कामकाज होने पर वापस नहीं देने जाता था और यही बात उसके साथ ससुराल से भी थी। वह ससुराल से लेकर तो खूब आता था, लेकिन उसने कभी उसे वापस नहीं दिया इसलिए इस जन्म में दमनक को अपमान मिलता है और खुशामद भी नहीं होती है।

कथा का महात्म: कर्मो का कभी क्षय नहीं होता है, जिससे हमने ऋण लिया है उसे या उसकी संतान को लौटना ही पड़ता है, ऐसा शास्त्र कहते हैं के भाई से ऋण लेने पर भतीजों को लौटाना चाहिए, ननिहाल से लेने पर मामा को लौटाना चाहिए, ससुराल से लेने पर साले को लौटा देना चाहिए। जिससे जो भी लिया है, उसको लौटा देने पर ही कर्मो के ऋण चुकता होते हैं ।

दमनक गणेश चतुर्थी का फल:
  दमनक गणेश चतुर्थी का व्रत करने पर पूर्व जन्मो में लिए हुए ऋणों से व्यक्ति को मुक्ति मिलती है ।


आचार्य कमल नंदलाल

ईमेल: info@kamalnandlal.com


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You