डोकलाम मामले में भारत की आंखों में धूल झोंक रहा चीन, मिले पुख्ता सबूत

You Are HereNational
Monday, November 27, 2017-10:33 AM

बीजिंगः दुनिया की नजर में बेशक भारत और चीन में डोकलाम को लेकर सब ठीक है लेकिन इस मामले में चीन अपनी चालबाजियों से बाज नहीं आ रहा है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक डोकलाम को लेकर चीन के खिलाफ एेसे दस्तावेज मिले हैं, जो साबित करते हैं कि डोकलाम में चीन भारत की आंखों में धूल झोंक रहा है ।

खुफिया दस्तावेजों के मुताबिक नॉर्थ डोकलाम में चीन अब भी सड़क निर्माण और दूसरे इंफ्रास्ट्रक्चर मजबूत कर रहा है। नॉर्थ डोकलाम में चीन अपनी सैनिक चौकियों के आसपास सड़क का निर्माण कर रहा है। इतना ही नहीं चीन के सैनिक अब भी नॉर्थ डोकलाम के इलाके में पैट्रोलिंग कर रहे हैं। नॉर्थ डोकलाम में बर्फबारी शुरू होने के बाद सितंबर तक चीन की सेना पीछे हट जाती थी, लेकिन इस बार चीन के सैनिक इन इलाकों में डटे हुए हैं।
PunjabKesari
नॉर्थ डोकलाम में रहने के लिए चीन वहां परमानेंट सैनिक कॉलोनियां बना रहा है । नॉर्थ डोकलाम के पास फारी डेजोंग इलाके में चीन सामरिक महत्व की 16 पक्की इमारतें बनाई जा रही हैं। चीन ने सैन्य साजो-सामान रखने के लिए 6 अत्याधुनिक टनल भी बना ली हैं। साथ ही बर्फीले तूफान से बचाने के लिए 25 से 30 परमानेंट शेड्स भी डाले हैं। इतना ही नहीं चुंबी वैली में भी चीनी सैनिकों ने पूरी सर्दियां डेरा डाले रखने का इंतज़ाम कर लिया है। दुनिया को दिखाने के लिए चीन ने डोकलाम में अपने सैनिक पीछे हटाए, लेकिन वो सैनिक बैरकों में लौटने के बजाय डोकलाम में ही दूसरी लोकेशनों पर शिफ्ट कर दिए गए है।

भारतीय खुफिया एजेंसियों ने इन इलाकों में 400 से ज्यादा छोटी गाड़ियों को भी देखा है, जिससे चीन के सैनिक एक जगह से दूसरी जगह आते-जाते हैं। खुफिया दस्तावेजों के मुताबिक चीन ने नॉर्थ डोकलाम में एक सीक्रेट हेलीबेस भी बना रखा है जिसे ऊंची दीवारों से छिपाने की कोशिश की गई है। चीन की इस नई चालबाजी से सवाल उठने लगे हैं कि क्या वाकई उसने डोकलाम में अपनी हार स्वीकार की थी या पीछे हटने का नाटक ।

 

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You