नेट परिणाम में अनियमितता के खिलाफ 31 को होगा घेराव

  • नेट परिणाम में अनियमितता के खिलाफ 31 को होगा घेराव
You Are HereNational
Tuesday, October 29, 2013-5:34 PM

नई दिल्ली : यू.जी.सी. (विश्वविद्यालय अनुदान आयोग) द्वारा 21 अक्तूबर  को जून 2013 नेट परीक्षा के घोषित किए गए परिणाम में कई अनियमितताएं सामने आई हैं। नेट परीक्षा परिणाम के खिलाफ आवाज उठाते हुए ऑल इंडिया यू.जी.सी. पीड़ित मोर्चा ने सोमवार को दिल्ली विश्वविद्यालय में पब्लिक मीटिंग बुलाई।
 
मीटिंग में दिल्ली के साथ ही मेरठ, इलाहाबाद, फरीदाबाद, गुडग़ांव सहित कई शहरों के युवा शामिल हुए। साथ ही निर्णय लिया गया कि 31 अक्तूबर  को आई.टी.ओ. स्थिति यू.जी.सी. कार्यालय पर धरना दिया जाएगा। डूटा, डूसू, जे.एन.यू. छात्र संघ और ऑल इंडिया रीसर्चर्स एसोसिएश ने भी समर्थन दिया है।

ऑल इंडिया यू.जी.सी. पीड़ित संघर्ष मोर्चा द्वारा  विवेकानंद मूॢत, आर्ट्स फैकल्टी, नॉर्थ कैम्पस में बुलाई पब्लिक मीटिंग में नेट 2013 परीक्षा परिणाम में अनियमितताओं को लेकर देशभर के छात्र एकत्र हुए। बैठक के दौरान छात्रों ने कहा कि अनियमितताओं से देशभर के हजारों छात्रों का भविष्य अंधेरे में चला गया है। इससे पहले भी यू.जी.सी. समय-समय पर अनेक छात्र विरोधी गतिविधियों में संलिप्त रहा है, चाहे दिल्ली और रांची के परीक्षा केंद्रों का मामला रहा हो या त्रुटिपूर्ण उत्तर पुस्तिका का मामला रहा हो।

यू.जी.सी. नेट जून 2013 के रिजल्ट में हजारों छात्रों का न तो नेट हुआ और न जे.आर.एफ. जबकि यू.जी.सी. की उत्तर पुस्तिका के अनुसार हजारों छात्रों के अंक नेट और जे.आर.एफ. की योग्यता से भी अधिक हैं। हाल में छात्रों द्वारा यू.जी.सी. नेट ब्यूरो साउथ कैम्पस डीयू से सम्पर्क करने पर नेट परीक्षा परिणाम के बारे में कोई संतोषजनक उत्तर नहीं दिया जा सका। मोर्चे को डूटा, डूसू, जेएनयूएसयू व ऑल इंडिया रीसर्चर्स एसोसिएशन ने भी अपना समर्थन दिया है।

जे.एन.यू.एस.यू. ने किया यू.जी.सी. का विरोध:
जे.एन.यू. छात्रसंघ ने यू.जी.सी. नेट की ओर से छात्रों के साथ कथित नाइंसाफी के खिलाफ कड़ा विरोध किया है। छात्रसंघ ने कहा है कि यू.जी.सी. की नेट की जून 2013 की परीक्षा कॉपियों के जांच में छात्रों के साथ ज्यादती की गई है। उपाध्यक्ष अनुभूति अग्नेश ने कहा कि अध्यक्ष, महासचिव और कई रिसर्च स्कॉलर यू.जी.सी. चेयरमैन प्रो. वेद प्रकाश से मिलने गए थे, लेकिन वहां मौजूद सैक्रेटरी ने भी हमसे ठीक से बात नहीं की। अनुभूति ने कहा कि अपनी गलती मानने की जगह यू.जी.सी. कह रहा है कि छात्र चोरी करते हैं इसलिए कॉपी चेक नहीं किया। यह समझ से परे है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You