शीतकाल के लिए केदारनाथ के द्वार बंद

  • शीतकाल के लिए केदारनाथ के द्वार बंद
You Are HereNational
Tuesday, November 05, 2013-2:28 PM

देहरादून: मामूली हिमपात और वैदिक मंत्रोच्चार के बीच पवित्र हिमालयी मंदिर केदारनाथ के द्वार आज शीतकाल के लिए बंद कर दिए गए। मंदिर समिति के मुख्य कार्यपालक अधिकारी बी बी सिंह ने बताया कि केदारनाथ मंदिर के मुख्य पुजारी बागेश लिंग ने श्रद्धालुओं, मंदिर समिति के सदस्यों और वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारियों सहित करीब 150 लोगों की मौजूदगी में छह घंटे तक पूजा की। इसके बाद सुबह 8 बजे मंदिर के द्वार बंद कर दिए गए।

उन्होंने बताया कि नासिक से महामंडलेश्वर स्वामी सम्विदानंद द्वारा लाई गई करीब एक क्विंटल भभूत समाधि पूजा के दौरान मंदिर के गर्भगृह में शिवलिंग पर लगाई गई। इसके बाद शीतकाल के लिए मंदिर के द्वार बंद कर दिए गए। जाड़े में यह इलाका बर्फ से ढका होता है और यहां पहुंचना लगभग असंभव हो जाता है। आज की पूजा के लिए बर्फीली हवाओं तथा हल्के हिमपात के बावजूद बड़ी संख्या में श्रद्धालु मंदिर में एकत्र हुए थे। इनमें से कुछ विदेशी भी थे।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You