30 सीटों पर कांग्रेस में रस्साकशी

  • 30 सीटों पर कांग्रेस में रस्साकशी
You Are HereNational
Saturday, November 09, 2013-3:54 PM

नई दिल्ली ( अशोक शर्मा ): दिल्ली विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस के उम्मीदवारों की पहली सूची पर मुहर लगाने के लिए पार्टी हाईकमान सोनिया गांधी की अध्यक्षता में शनिवार को बैठक होगी। ऐसी उम्मीद है कि बैठक के बाद उम्मीदवारों के नामों की घोषणा कर दी जाएगी। लेकिन जिन सीटों पर प्रत्याशियों के चयन को लेकर विवाद चल रहा है, उनके बारे में हाईकमान द्वारा ही फैसला लिया जाएगा। एक बात साफ है कि नेता इस मामले में पर कुछ भी कहें, लेकिन सूची जारी होने के बाद भाजपा की तरह कांग्रेस के नेताओं को भी कार्यकर्ताओं के जबरदस्त विरोध का सामना करना पड़ सकता है।
 

इसकी वजह है कि  जिन विधानसभा क्षेत्रों में भाजपा के विधायक हैं, उन क्षेत्रों में कांग्रेस उम्मीदवारों की सूची तैयार क र ली गई है। उस सूची में प्रदेश कांग्रेस के दो नेताओं के बीच चल रही गुटबाजी साफतौर पर दिखाई दे रही है। खास बात तो यह है कि सभी 27 सीटों पर उम्मीदवारों का जो पैनल तैयार किया गया है, उनमें कुछ सीटों पर दो-दो तथा कुछ पर तीन-तीन संभावित उम्मीदवारों के नाम शामिल हैं। इसके अलावा ओखला, राजौरी गार्डन और नरेला सीट पर उम्मीदवारों के चयन का फैसला भी हाईकमान पर ही छोड़ दिया है। इसकी वजह नेताओं के बीच चल रही आपसी खींचातानी ही माना जा रहा है।

पार्टी सूत्रों के अनुसार जिन सीटों पर संभावित उम्मीदवारों के बीच दौड़ चल रही है, उनमें बाबरपुर सीट पर उदय कौशिक, कैलाश जैन और रजिया सुल्ताना, कृष्णा नगर सीट पर पूर्व निगम पार्षद रमेश पंडित, पूर्व पार्षद डॉ. वीके मोंगा और आर पी मलिक, घौंडा से रोहताश कुमार और पूर्व विधायक भीष्म शर्मा। करावल नगर सीट पर बेगराज, सनत  पाल और चतर सिंह, गोकुलपुर सीट पर पूर्व विधायक बलजोर सिंह और श्रीनिवास बागड़ी, शालीमार बाग सीट पर अर्जुन कुमार, सुलेख अग्रवाल और नरेश गुप्ता, त्रिलोकपुरी सीट पर बह्रमपाल और निगम पार्षद अंजना प्राचा, किराड़ी सीट पर अमित मलिक और एस के पुरी, शकूरबस्ती सीट पर डॉ.एस सी वत्स और  नारंग, ग्रैटर कैलाश सीट पर जितेन्द्र कोचर और ओनिका महरोत्रा, मोती नगर सीट पर पूर्व विधायक अंजलि राय, जनकपुरी सीट पर रागिनी नायक, पूर्व पार्षद संजय पुरी और आलोक शर्मा, तिलक नगर से अमृता धवन और दलेह मेहंदी के नाम प्रमुख हैं।
 

सूत्रों के अनुसार पश्चिमी दिल्ली में हरिनगर सीट पर अभी तक ओपी वधवा, सुरेश मलिक और सीपी मित्तल का नाम पैनल में है। यदि भाजपा का टिकट कटने के बाद हरशरण सिंह बल्ली कांग्रेस में शामिल हो जाते हैं और वह कांग्रेस  के टिकट पर हरि नगर से चुनाव लड़ते हैं, तो बल्ली को भी इलाके के कांग्रेसी नेताओं और उनके समर्थकों के विरोध का सामना करना पड़ सकता है।

चर्चा यह भी है कि दिल्ली की मंत्री किरन वालिया की मालवीय नगर सीट बदलकर उन्हें इस बार आर के पुरम सीट से चुनाव लड़ाया जा सकता है। इसी तरह से विधायक बरखा सिंह को कस्तूरबा नगर और नीरज बसौया को कस्तूरबा नगर से दिल्ली कैंट सीट पर चुनाव मैदान में उतारा जा सकता है। दिल्ली विधानसभा के अध्यक्ष योगानंद शास्त्री को महरौली की बजाए नरेला से चुनाव लड़ाया जा सकता है जबकि बलराम तंवर के विरोध को देखते हुए छतरपुर से कंवर सिंह तंवर को चुनाव मैदान में उतारा जा सकता है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You