मैट्रो व एयरपोर्ट पर नौकरी के नाम पर ठगी, 3 गिरफ्तार

  • मैट्रो व एयरपोर्ट पर नौकरी के नाम पर ठगी, 3 गिरफ्तार
You Are HereNational
Tuesday, November 12, 2013-5:42 PM

नई दिल्ली : दक्षिण पूर्वी जिला के गोविंदपुरी थाना पुलिस ने एक ऐसे गिरोह का भंडाफोड़ किया है,जो मेट्रो व एयरपोर्ट पर नौकरी लगाने के नाम पर भोले भाले लोगों को ठगी का शिकार बनाते थे।

 इस गिरोह के सरगना ने दिल्ली समेत पूरे भारत में अब तक करीब 100 से ज्यादा लोगों को नौकरी दिलाने के नाम पर चूना लगा चुका है। गिरफ्तार आरोपियों की पहचान यू.पी. हथरस निवासी अमित चौहान(21)प्रशांत चौहान(24) और रिंकू कुमार(25)के रूप में हुई है। प्रशंात चौहान गिरोह का सरगना है। प्रशांत और अमित सगे भाई है। पुलिस ने उनके पास से मोबाइल, लैपटॉप और 2 डाटा कार्ड भी बरामद किया है।

दक्षिण पूर्वी जिला के पुलिस उपायुक्त पी. करुणाकरण ने बताया कि गोविंदपुरी निवासी 23 अगस्त अशोक कुमार ने शिकातय दर्ज कराई थी कि गुगल सर्च के दौरान उसे ई-मेल व मोबाइल नंबर मिला जिसमें मेट्रो व एयरपोर्ट पर नौकरी दिलाने की बात कही गई थी। उसने उस मेल पर अपना बायोडेटा भेजा। उसके बाद उन्होंने नौकरी दिलाने के नाम पर 80 हजार में बात तय हो गई।

अशोक ने एक्सिस व स्टेट बैंक के खाते में 80 हजार रुपए जमा कर दिए। कुछ दिन बाद उसे ज्वाइंन करने के लिए लेटर भी आया लेकिन जब वह मेट्रो भवन गया तो पता चला कि लेटर फर्जी है। उसकी शिकायत पर पुलिस ने एस.एच.ओ जे.एस.मिश्रा के नेतृत्व में टीम बनाई और सॢवलांस की मदद से 9 नवम्बर को गे्रटर कैलाश से तीनों को दबोच लिया

सरगना भी हो चुका है ठगी का शिकार :
पूछताछ में पता चला कि गिरोह का सरगना प्रशांत चौहान 12 वीं के बाद नौकरी के लिए दिल्ली आया था लेकिन उसे भी नौकरी दिलाने के नाम पर ठगा गया। उसके बाद वह खुद ही ठगी का काम शुरू कर दिया। इस काम में उसने अपने छोटे भाई अमित चौहान को भी शामिल कर लिया।

 बाद में गिरोह में अमित का दोस्त रिंकू भी शामिल हो गया। पूछताछ में पता चला कि पूरे देश में अब तक यह गिरोह 100 से ज्यादा लोगों को नौकरी दिलाने के नाम पर ठगी कर चुके हैं।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You