पश्चिमी यूपी उच्च न्यायालय पीठ की मांग को लेकर मेरठ में बंद

  • पश्चिमी यूपी उच्च न्यायालय पीठ की मांग को लेकर मेरठ में बंद
You Are HereNational
Friday, November 22, 2013-1:14 PM

मेरठ: पश्चिमी उत्तर प्रदेश में इलाहाबाद उच्च न्यायालय की पीठ के लिए आहूत पश्चिमी उत्तर प्रदेश बंद के दौरान आज मेरठ में वकीलों का सड़क और बाजारों पर पूरी तरह कब्जा रहा जिसके कारण सड़क और बाजार आम दिनों के मुकाबले सुनसान रहे। बंद के दौरान निजी बसों के अलावा उत्तर प्रदेश परिवहन निगम की बसों को भी आंदोलनकारियों द्वारा चलने नहीं दिया। रोडवेज के दिल्ली रोड स्थित भैसाली और मेरठ बस अड्डे के अलावा गढ़ रोड स्थित सोहराबगेट बस अड्डे पर आंदोलनकारियों का कब्जा है जिसके कारण रोडवेज बसों का संचालन नहीं हो पा रहा है। रोडवेज बसें नहीं चलने के कारण यात्रियों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। बस अड्डो पर पुलिस तैनात तो है लेकिन आंदोलनकारियों के सामने वह बेबस दिख रही है। इसके अलावा सिटी बसे, टैंपो आदि भी बंद हैं। स्कूल, कॉलेज, सिनेमा हाल और पेट्रोल पंप भी बंद हैं।

एसपी सिटी ओम प्रकाश ने कहा कि बंद के दौरान कहीं से कोई अप्रिय घटना का सूचना नहीं है। उन्होंने कहा कि आंदोलनकारियों से वार्ता कर परिवहन जैसी आवश्यक सेवाओं को बंद से अलग रखने का आग्रह किया गया है। आंदोलनकारियों ने विश्वास दिलाया है कि एक बजे के बाद आवश्यक सेवाओं को बहाल करा दिया जाएगा। उच्च न्यायालय पीठ स्थापना केन्द्रीय संघर्ष समिति के पश्चिमी उत्तर प्रदेश के अध्यक्ष उदयवीर सिंह ने कहा कि मेरठ समेत पश्चिमी उत्तर प्रदेश के तमाम जिलों में बंद आज पूरी तरह सफल है। उन्होंने कहा कि इससे साफ है कि पश्चिमी उत्तर प्रदेश में उच्च न्यायालय की पीठ की मांग वकीलों की नहीं बल्कि यहां की आम जनता की मांग है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You