विधानसभा चुनाव की छाया लोकसभा चुनाव पर भी

  • विधानसभा चुनाव की छाया लोकसभा चुनाव पर भी
You Are HereNational
Friday, November 22, 2013-3:28 PM

जयपुर: राजस्थान में आगामी एक दिसम्बर को होने वाले विधानसभा चुनाव में लोक सभा के मुद्दे भी सुनाई दे रहे हैं। चुनाव नजदीक आते-आते सभाओं में प्रमुख दल भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) एवं कांग्रेस के नेता निकट भविष्य में आने वाले लोकसभा चुनाव को भी ध्यान में रख रहे हैं तथा एक दूसरे पर जमकर निशाना लगाया जा रहा हैं।

 

भाजपा के प्रधानमंत्री पद के दावेदार नरेन्द्र मोदी तो चुनाव प्रचार शुरू होने से पहले ही जयपुर में आयोजित सभा में प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, कांग्रेस नेता सोनिया गांधी, राहुल गांधी तथा केन्द्र सरकार की नीतियों को लेकर जमकर प्रहार कर चुके हैं तथा अब भी इसका कोई मौका नहीं चूकते।

 

कांग्रेस मोदी के भाषण को लेकर कई बार चुनाव आयोग को शिकायत करने तक पहुंच गई हैं लेकिन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह इस झमेले में पडऩे के बजाए वह किसी नेता का नाम भी नहीं लेते और यह बता देते हैं कि जिस भाषा में विपक्ष के नेता बात कर रहे हैं ऐसी भाषा का इस्तेमाल हम नहीं कर सकते। प्रधानमंत्री ने केन्द्र सरकार की उपलब्धियों का भी गुनगान किया। सिंह ने कल यहां मोदी का बिना नाम लिए अल्पसंख्यक और मानवाधिकार के मामले में जमकर चाई की।

 

इससे पहले मोदी ने राहुल गांधी को साहबजादे कह कर खिल्ली उड़ाने का प्रयास किया जिसकी कांग्रेस ने काफी भर्त्सना की। पिछले दिनों चुर में आयोजित सभा में राहुल गांधी ने विपक्षी दलों पर अपनी हत्या की आशंका व्यक्त कर सनसनी फैला दी थी जिसे भाजपा ने गंभीरता से लेकर चुनाव आयोग को शिकायत की। चुनाव सभाओं में राहुल गांधी और कई केन्द्रीय मंत्री आकर केन्द्र सरकार की उपलब्धियां बता चुके हैं तथा संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन की अध्यक्ष सोनिया गांधी का दौरा होने वाला हैं।

 

भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष वसुंधरा राजे अपना चुनाव प्रचार राज्य के मुद्दों पर ही केन्द्रित कर रही हैं लेकिन हाल में उन्होंने विधानसभा चुनाव को सेमीफाइनल बोलकर लोकसभा चुनाव की आहट के संकेत दे दिए। राजे ने इस मामले में अपनी पार्टी के विरोधी नेताओं को भी चुप करा दिया जो कई मुद्दो पर राजे को निशाना बना रहे थे। अब ये नेता इसलिए चुप हो गए क्यों कि इस चुनाव का असर लोकसभा चुनाव पर भी पड़ेगा तथा कोई कमी रही तो उन पर भी गाज आ सकती हैं।

 

चुनाव में सत्तारूढ़ पार्टी कांग्रेस ने सरकार की उपलब्धियों को चुनाव प्रचार एवं विग्यापन का आधार बनाया है। भाजपा कांग्रेस पर प्रदेश को विकास में पीछे धकेलने का आरोप लगा रही हैं। चुनाव में महंगाई भी एक मुद्दा हैं लेकिन जनता दल यू के शरद यादव ने कल यहां कहा कि हर चीज की महंगाई बढ़ी है लेकिन आलू-प्याज को मुद्दा बनाया जा रहा हैं। क्यों कि ये दोनों ही चीजें वोट खींचने वाली हैं। दोनों प्रमुख दलों के अलावा बसपा, सपा, माकपा, राजपा आदि छोटे-मोटे दल सब समस्याओं की जड़ कांग्रेस और भाजपा को बताकर वोट हासिल करने का प्रयास कर रहे हैं।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You