सवा सौ सोसायटी, 2 गांव बेगाने

  • सवा सौ सोसायटी, 2 गांव बेगाने
You Are HereNcr
Friday, November 29, 2013-11:52 AM

वेस्ट दिल्ली (अमित कसाना): रोहिणी विधानसभा पश्चिमी दिल्ली के पॉश इलाकों को अपने में समेटता है। यहां कुल करीब सवा सौ से अधिक ग्रुप हाउसिंग सोसायटी हैं। इन सोसायटियों के बीच यहां नाहरपुर व राजापुर दो गांव भी इसी विधानसभा में पड़ते है।

यहां के मुख्य मार्गों, बाजार व रिहायशी इलाकों में योजनाबद्ध विकास हुआ दिखाई पड़ता है। यहां पिछली बार भाजपा के उम्मीदवार जयभगवान की जीत हुई थी। लेकिन सालों से प्रस्तावित कॉलेज के नहीं बने, पार्किंग समस्या व सरकारी अस्पताल व श्मशान नहीं होने से लोगों में नाराजगी भी है।

जयभगवान वर्ष 2008 में लगातार चौथी बार जीतकर विधानसभा में पहुंचे थे। लिहाजा वह लोकप्रिय भी हैं और सक्रिय भी। इस क्षेत्र में करीब 21 प्रतिशत वैश्य समाज के वोट हैं, जो अब तक भाजपा के पक्ष में रहते आये हैं। यहां पंजाबी भी बड़ी तादाद में रहते हैं।  जिनका झुकाव कांग्रेस के पंजाबी समुदाय के प्रत्याशी के.के.वाधवा की ओर हो सकता है। 

हालांकि नाहरपुर गांव व राजापुर गांव में गंदगी से परेशानी है। बुनियादी सुविधाएं इलाके में नहीं हैं। मसलन व्यवस्थित पार्किंग साइट नहीं है। जो इस बार एक बड़ा मुद्दा है। साथ ही  रोहिणी के पॉश इलाकों में भी समस्याओं का अंबार बढ़ रहा है। सबसे बड़ी दिक्कत लचर कानून व्यवस्था है। महिलाओं से झपटमारी व चोरियों की वारदाताओं में लगातार इजाफा हुआ है।

हां, कुछ सुविधाएं भी जुड़ी हैं। मेट्रो सुविधा के चलते आवाजाही आसान हुई है। हरओर पार्क और स्ट्रीट लाइटें दिखती है। वर्ष 2008 में परिसीमन के बाद ये विधानसभा अस्तित्व में आई। पहले ये क्षेत्र बवाना व बादली विधानसभा के तहत आता था। अलबत्ता फंड की कमी के चलते कॉलेज का काम अधर में लटका  है। विधायक उसको अगले कार्यकाल में बनवाने का वादा कर रहे हैं। तो वहीं, विपक्ष का आरोप है कि उन्होंने क्षेत्र के विकास में पक्षपात किया है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You