गन्ने को लेकर विपक्षी दलों का अखिलेश सरकार पर हमला तेज

  • गन्ने को लेकर विपक्षी दलों का अखिलेश सरकार पर हमला तेज
You Are HereUttar Pradesh
Sunday, December 01, 2013-12:34 PM

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में चीनी मिलो के अभी तक चालू नहीं हो पाने के कारण किसानों और विपक्षी दलों का हमला अखिलेश सरकार पर तेज होता जा रहा है जबकि मिल मालिक वेट एण्ड वाच की नीति अपनाये हुए हैं। राष्ट्रीय लोकदल और भारतीय जनता पार्टी ने मिलो के चालू नहीं हो पाने का ठीकरा सरकार पर फोडा है जबकि गन्ना किसान इसे लेकर सड़कों पर उतरने लगे हैं। रालोद के प्रदेश अध्यक्ष मुन्ना सिंह चौहान के अनुसार मिलो को चालू कराने की मांग को लेकर आज से दोपहर में तीन घंटे चक्का जाम किया जायेगा। हालांकि इससे रेल और एम्बुलेंस सेवाओं को मुक्त रखा जायेगा। भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता विजय बहादुर पाठक ने कहा कि सरकार का रवैया ढुलमुल रहा है इसलिए इसका खामियाजा किसानों को भुगतना पड़ रहा है।

पाठक ने मिलो के अभी तक चालू नहीं हो पाने का कारण सरकार और मिल मालिकों की नूराकुश्ती बताया है। उन्होंने कहा कि इस मामले में मिल मालिकों की जब मुख्यमंत्री से बात हो गयी है और वह असफल रही है तो अब मुख्य सचिव से बात का क्या औचित्य है। उन्होंने कहा कि घोषित दाम पर मिल मालिको ने पिछले वर्ष गन्ने का भुगतान किया है तो इस वर्ष क्या परेशानी है। दूसरी ओर चीनी मिल एसोसियेशन के प्रवक्ता दीपक गुप्ता ने कहा कि घोषित मूल्य के भुगतान में यदि परेशानी न होती तो मिल चलाने के लिए अब तक तैयार हो गये होते। आगामी चार दिसम्बर से मिले चालू करने की सरकारी हिदायत के बारे में उनका कहना था कि समय आने दीजिए. तब इस पर कुछ कहा जा सकता है। अभी कुछ कहना जल्दबाजी होगी।

उन्होंने कहा कि सरकार की मिल चलाने के सम्बन्ध में बनाए जा रहे दबाव के बारे में वह अभी कुछ नहीं कह सकते क्योंकि अभी उन लोगों को कोई आदेश नहीं मिला है। ज्ञात है कि लखीमपुर खीरी में एक किसान की आत्महत्या, विपक्षी दलों के हमले और भारतीय किसान यूनियन के आन्दोलन के मद्देनजर सरकार ने निजी चीनी मिलो को चालू कराने के लिए दबाव बढ़ाना शुर कर दिया है। इसके तहत नौ चीनी मिलो के खिलाफ बकाया भुगतान को लेकर कुर्की के निर्देश भी जारी किये गये हैं।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You