जस्टिस गांगुली कांड में सिब्बल ने कहा सुप्रीम कोर्ट इस मामले से पल्ला नहीं झाड़ सकती

  • जस्टिस गांगुली कांड में सिब्बल ने कहा  सुप्रीम कोर्ट इस मामले से पल्ला नहीं झाड़ सकती
You Are HereNational
Friday, December 06, 2013-5:02 PM

नई दिल्ली: विधि मंत्री कपिल सिब्बल ने यौन प्रताडऩा के मामले में दोषी न्यायमूर्ति ए के गांगुली के खिलाफ महज सेवानिवृत्त होने के आधार पर आगे कार्रवाई नहीं करने के उच्चतम न्यायालय के फैसले पर आज सवाल उठाया और कहा कि इस मुद्दे को ‘‘दबाया नहीं जा सकता।’’

सिब्बल ने यहां संवाददाताओं से कहा, ‘‘ मुझे थोड़ी निराशा हुई है क्योंकि संस्थान ने पाया है कि यौन संबंध बनाने के उकसावे की बात को सही पाया गया है और उसे मामले को आगे बढ़ाना चाहिए था।’’ उन्होंने कहा कि उनके विचार में प्रथम दृष्टया उच्चतम न्यायालय ने इस तरह से इस मामले को दबा दिया है कि शीर्ष अदालत ने कहा है कि उनका मामले से कोई लेना देना नहीं है क्योंकि वह अब न्यायाधीश नहीं हैं । 

शीर्ष अदालत की तीन जजों की समिति ने न्यायमूर्ति गांगुली को एक विधि इंटर्न के खिलाफ ‘‘अवांछित व्यवहार’’ और ‘‘यौन प्रकृति के आचरण’’ का दोषी पाया है ।  करीब एक साल पहले उच्चतम न्यायालय से सेवानिवृत्त हो चुके न्यायमूर्ति गांगुली इस समय पश्चिम बंगाल मानवाधिकार आयोग के प्रमुख हैं और उन पर एक इंटर्न ने पिछले वर्ष दिल्ली में होटल के एक कमरे में यौन रूप से प्रताडि़त करने का आरोप लगाया है । न्यायाधीश गांगुली ने इन आरोपों से इनकार किया है ।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You