संसदीय कार्य को बाधित कर हम अपना ही नुकसान कर रहे हैं : प्रणब

  • संसदीय कार्य को बाधित कर हम अपना ही नुकसान कर रहे हैं : प्रणब
You Are HereNational
Friday, December 06, 2013-8:02 PM

कोलकाता: राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने संसद और राज्य विधानसभाओं की कार्यवाही अक्सर बाधित होने पर शुक्रवार को अपनी चिंता प्रकट की। मुखर्जी ने सांसदों और विधायकों से जनता के प्रति अपनी जिम्मेदारियों को पूरी तरह निभाने का अनुरोध किया। राष्ट्रपति ने पश्चिम बंगाल विधानसभा की हीरक जयंती समारोह के दौरान कहा कि वह हर वर्ष संसद सत्र के दौरान सिर्फ कुछ दिन ही कार्यवाही चलने को लेकर काफी चिंतित है।

मुखर्जी ने कहा, ‘‘मैं कुछ चीजों के प्रति बेहद चिंतित हूं, मुझे लगता है कि हम संसदीय कार्यवाही के दिनों की संख्या को घटाते जा रहे हैं। देश की पहली लोकसभा की कार्यवाही 677 दिन चली थी, जबकि 14वीं लोकसभा में यह घटकर सिर्फ 332 दिन रह गई।’’ मुखर्जी ने संसदीय कार्यवाही में व्यवधान को लोकतंत्र में नए हथकंडे के रूप में इस्तेमाल करने के लिए सांसदों और विधायकों को आरोपी बताया।

मुखर्जी ने कहा, ‘‘लोकतंत्र में बहस, विरोध और निर्णय का बहुत महत्व होता है, लेकिन दुर्भाग्य से हमने इसमें व्यवधान को भी शामिल कर लिया।’’ उन्होंने आगे कहा, ‘‘जब हम संसदीय कार्य को बाधित करते हैं तो हम भूल जाते हैं कि हम अपना ही नुकसान कर रहे हैं। हम अपनी जिम्मेदारियों को नहीं निभा रहे। सांसदों और विधायकों को जिम्मेदारी दी नहीं जाती ही, इसके उलट वे जनता से जिम्मेदारियां मांगते हैं।’’


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You