‘आप’ की कैबिनेट में अल्पसंख्यक उपेक्षित

  • ‘आप’ की कैबिनेट में अल्पसंख्यक उपेक्षित
You Are HereNational
Thursday, December 26, 2013-8:53 PM

नई दिल्ली (धनंजय कुमार): सभी को समानता एवं एकजुटता की दुहाई देने वाली पार्टी आप की कैबिनेट में उल्पसंख्यक उपेक्षित किए गए हैं। दिल्ली विधानसभा के इतिहास में ऐसा पहली बार होगा जब अल्पसंख्यक मंत्रालय की जिम्मेदारी कोई सामान्य श्रेणी का मंत्री ही संभालेगा।

क्योंकि आम आदमी पार्टी की बनने जा रही सरकार में अल्पसंख्यक श्रेणी के  एक भी विधायक को मंत्रालय नहीं दिया जा रहा है। जबकि पार्टी के कुल 28 विधायकों में से तीन विधायक सिख हैं। इससे अल्पसंख्यक मंत्रालय के साथ दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी (डीएसजीएमसी) के चुनाव पर भी असर पड़ेगा।

ज्ञात हो  कि डीएसजीएमसी अल्पसंख्यक विभाग के अधीन आता है और अबतक दिल्ली सरकार में इसे कोई अल्पसंख्यक मंत्री ही संभालता आया है। इसके पीछे तर्क यह दिया जाता है कि इस श्रेणी का मंत्री अकाल तख्त के नियमों व कार्यप्रणाली को बेहतर तरीके से जानता है।

आप की सरकार में उल्पसंख्यकों के नहीं होने से सिख समुदाय में काफी मायूसी है। उनका कहना है कि भाजपा या कांग्रेस पार्टी की सरकार में अभी तक ऐसा नहीं हुआ, लेकिन आप की सरकार में हमें उपेक्षित किया जा रहा है। गौरतलब है कि आगामी शनिवार से बनने जा रही आम आदमी पार्टी की सरकार में राखी बिड़ला, मनीष सिसोदिया, सोमनाथ भारती, सतेंद्र जैन, गिरिश सोनी व सौरभ भारद्वाज कैबिनेट मंत्री बनाए जा रहे हैं। लेकिन पार्टी ने एक भी सिख विधायक को मंत्री नहीं बनाया है।

जबकि हरिनगर नगर विधानसभा से जगदीप सिंह, जंगपुरा से मनिंदर सिंह धीर तथा तिलक नगर से जरनैल सिंह जैसे सिख नेताओं ने जीत दर्ज की है। खास बात यह है कि इन तीनों ही नेताओं ने भाजपा व कांग्रेस के कद्दावर मंत्रियों को शिकस्त दी है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You