टैंकर माफिया पर नकेल, आप सरकार की दूर की सोच

  • टैंकर माफिया पर नकेल, आप सरकार की दूर की सोच
You Are HereNational
Monday, January 06, 2014-8:10 AM

नई दिल्ली (अशोक शर्मा): दिल्ली जल बोर्ड और माफिया टैंकर पर नकेल कसने की बात कहकर मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने दूर की कौड़ी खेली है। दिल्ली विधानसभा चुनाव में मिली सफलता और अब आगामी लोकसभा चुनाव को ध्यान में रखकर इसे आम आदमी पार्टी के नेताओं की एक खास चुनावी रणनीति माना जा रहा है।इसमें कोई दोराय नहीं है कि दिल्ली जल बोर्ड के अधिकारियों और कुछेक राजनीतिज्ञों के गठजोड़ की वजह से ही दिल्ली में टैंकर माफिया सक्रिय होकर अपनी जेबें भर मालामाल हो रहा है।

ये माफिया मुख्य रूप से दक्षिण दिल्ली के कुछ प्रमुख इलाकों में काफी सक्रिय हैं। इनमें संगम विहार, देवली, खानपुर, राजू पार्क, कृष्णा पार्क, पुल प्रहलादपुर और तुगलकाबाद एक्सटैंशन आदि प्रमुख हैं। यह कहना गलत न होगा कि संगम विहार दिल्ली की ही नहीं बल्कि देश की सबसे बड़ी अनधिकृत कालोनी है, जहां कई लाख लोग जीवन बसर करते हैं। अरावली पहाड़ी को छूता हुआ यह इलाका हरियाणा सीमा से सटा हुआ है। इसी के साथ है शूटिंग रैंज।

मुख्यमंत्री केजरीवाल पहले ही यह घोषणा कर चुके हैं कि मीटर लगे घरों में 20 हजार लीटर पानी रोजाना मुफ्त दिया जाएगा। लेकिन अब आप के नेताओं की नजर इन कालोनियों पर पड़ी है, जहां दिल्ली जल बोर्ड का पानी पहुंचने की बजाए बाजार में जाकर ब्लैक मार्किट में बिक जाता है। यही एक वजह है कि इन कालोनियों में टैंकर माफिया राज कर रहा है। माफिया ने दिल्ली जल बोर्ड की तरह समानांतर पाइप लाइन बिछा रखी है। सरकारी ट्यूबवैल तक पर कब्जा कर रखा है।

नवोदय टाइम्स के साथ हुई बातचीत देवली रोड निवासी आर.सी.शर्मा ने बताया कि दिल्ली जल बोर्ड में टैंकर भेजने के लिए कहते हैं, तो पहले कहा जाता था कि अपने विधायक के यहां शिकायत दर्ज कराओ। शिकायत भी करवा देते थे लेकिन टैंकर कालोनी में आने की बजाए खुले बाजार में पहुंचकर उसका पानी 800 से 1000 रुपए में बिक जाता था। शर्मा ने बताया कि उन्हें उम्मीद जगी है कि आप की सरकार पानी माफिया पर शिकंजा कसेगी और आम लोगों की प्यास बुझाएगी।

संगम विहार के लोगों ने बताया कि दिल्ली जल बोर्ड का टैंकर मुश्किल से सप्ताह में एक बार इलाके में आता है, लेकिन उन्हें टैंकर माफिया को हर माह 400 से 500 रुपए का भुगतान करना पड़ता है। यदि किसी परिवार से पानी के लिए मंथली देने में देरी हो जाती है, तो उस घर में होने वाली पानी की आपूर्ति को रोक दिया जाता है। इन लोगों को साफ कहना है यदि आप की सरकार उनके यहां दिल्ली जल बोर्ड के टैंकरों से पानी की सप्लाई शुरू करवा देती है, तो लोकसभा चुनाव में उसे जबरदस्त फायदा मिल सकता है।

कृष्णा पार्क निवासी राकेश शर्मा ने बताया कि हमारे इलाके का एक सरकारी ट्यूबवैल पिछले कई महीनों से खराब पड़ा था। इलाके के तत्कालीन विधायक चौ. प्रेम सिंह से कई बार शिकायत की गई, लेकिन समस्या का समाधान नहीं हो सका। अब माफिया ने एक आदमी ने उसे ठीक कराकर उसपर कब्जा कर लिया है। वो घंटों के हिसाब से पानी की आपूर्ति कर मोटी रकम वसूल रहा है। अधिकारी मौन है। हैरानी की बात एक यह भी है कि दिल्ली में बोरिंग करने पर पाबंदी है जबकि माफिया जगह-जगह बोरिंग कर लोगों को वही पानी पिला रहा है।

इन कालोनियों में रहने वाले लोगों ने बताया कि ये इलाके पहले कांग्रेस का गढ़ माने जाते थे, लेकिन दिल्ली विधानसभा के चुनाव में कांग्रेस के उम्मीदवार यहां से जीत हासिल नहीं कर सके हैं। लोगों को विश्वास है यदि आम आदमी पार्टी की सरकार पानी के टैंकर माफिया पर नकेल कसने में सफल हो जाती है, तो लोकसभा चुनाव में भी दिल्ली से चौकाने वाले नतीजे सामने आ सकते हैं।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You