लोकसभा चुनाव में आप को चाहिए नए मुद्दे

  • लोकसभा चुनाव में आप को चाहिए नए मुद्दे
You Are HereNational
Monday, January 06, 2014-2:54 PM

नई दिल्ली (अजीत के. सिंह) : मुख्यरूप से बिजली, पानी और भ्रष्टाचार के मुद्दे पर दिल्ली में चुनाव जीतने वाली आम आदमी पार्टी (आप) लोक सभा चुनाव के लिए नए मुद्दों की तलाश में है। ये मुद्दे क्या होंगे, अभी पार्टी में इस पर घोर मंथन चल रहा है। पार्टी किसी ऐसे मुद्दे की तलाश में है जिससे वह दिल्ली की जनता की तरह ही पूरे देश की जनता को अपने साथ जोड़ सके।

नवोदय टाइम्स ने जब आप के वरिष्ठ नेताओं से पार्टी से लोकसभा चुनाव में उठाने वाले मुद्दों के बारे में जानना चाहा तो उनके पास इसका कोई स्पष्ट जवाब नहीं था। पार्टी के वरिष्ठ सदस्य और दिल्ली सरकार में स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र कुमार जैन से इस बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि अभी पार्टी इस पर विचार कर रही है। ‘आप’ के नेशनल एग्जिक्यूटिव मेंबर मयंक गांधी को इन सवालों को लेकर भेजे गए मेल का भी कोई जवाब नहीं आया। हालांकि पार्टी सूत्रों की मानें तो अभी पार्टी के पास राष्ट्रीय स्तर पर कोई बड़ा मुद्दा नहीं है, जिससे पार्टी वोटरों को अपनी तरफ आसानी से खींच सके।

पार्टी को यह बात समझ में आने लगी है कि केवल भ्रष्टाचार के मुद्दे पर देश की हर हिस्से के वोटरों को अपने पक्ष में नहीं किया जा सकता है। ‘आप’ इसके लिए देश के लोगों का नब्ज टटोलेगी, फिर जाकर अपने मुद्दे तय करेगी। पार्टी की सबसे बड़ी चिंता गांवों को लेकर, जहां चुनावों में मुद्दों से ज्यादा भावनात्मक जुड़ाव चलता है। पार्टी गांवों को लेकर क्या रणनीति बनाए और क्या मुद्दे उठाए इस पर कुछ भी तय नहीं कर पा रही है। हालांकि इसके बावजूद ‘आप’ के सदस्य लोकसभा चुनाव को लेकर काफी उत्साहित दिख रहे हैं।

रॉयल बैंक ऑफ स्कॉटलैंड की पूर्व प्रमुख  मीरा सानयाल, स्टार टीवी के पूर्व प्रमुख समीर नैयर और इंफोसिस के पूर्व प्रमुख बाला कृष्णन जैसे बड़े कद वाले लोगों का आप के साथ जुडऩे से भी पार्टी की राष्ट्रीय छवि को बल मिला है और आप को यह लगने लगा है कि दिल्ली की जीत से पार्टी ने पूरे देश के लोगों की बीच अपनी जगह बना ली है।  


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You