समस्याओं और प्राकृतिक आपदाओं में सामुदायिक रेडियो की भूमिका अहम : मनीष

  • समस्याओं और प्राकृतिक आपदाओं में सामुदायिक रेडियो की भूमिका अहम : मनीष
You Are HereNational
Wednesday, January 15, 2014-6:38 PM

नई दिल्ली: केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री मनीष तिवारी ने रेडियो प्रसारणों पर बोलते हुए कहा कि देश में मोबाइल धारकों की तादात बढ़ती जा रही है। मोबाइल आखिरी व्यक्ति तक पहुंचाना लक्ष्य है। इससे ना केवल दूर संचार की पहुंच बढ़ेगी, बल्कि मोबाइल रेडियो भी लोगों तक पहुंचेगा।

मनीष तिवारी ने सामुदायिक रेडियो की भूमिका को भी अहम बताया और कहा कि समुदाय की समस्याओं और प्राकृतिक आपदाओं के समय सामुदायिक रेडियो महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। इस संबंध में उन्होंने सुनामी व उत्तराखंड जैसी प्राकृतिक आपदाओं के समय संचार के लिए सामुदायिक रेडिया के उपयोग का जिक्र किया। तिवारी सेटेलाइट एवं टेरेस्ट्रियल ब्रॉडकास्टिंग पर 20 वें अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन को सम्बोधित कर रहे थे। 

 प्रगति मैदान में तीन दिवसीय बीईएस (ब्रॉडकास्ट इंजीनियरिंग सोसायटी) एक्सपो की शुरुआत मंगलवार से हुई। इसके अंतर्गत सेटेलाइट एवं टेरेस्ट्रियल ब्रॉडकास्टिंग पर 20 वें अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन का आयोजन किया गया।  उन्होंने कहा कि अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन में देश एवं विदेश से आए विशेषज्ञों का विचार स्वागत योग्य है। उनके विचारों से ही देश में टेलीविजन प्रसारण के क्षेत्र में नए विकास होंगे।
 
सम्मेलन में टीआरपी रेटिंग, रेडियो की मीडियम वेब तरंगों को एफ तरंगों में बदलने व टेरेस्ट्रियल टेलीविजन पर चर्चा हुई। टेरेस्ट्रियल टेलीविजन एक तरह का टेलीविजन प्रसारण है। यह सेटेलाइट ट्रांसमिशन या केबल ट्रांसमिशन से नहीं जुड़ता। ट्रांसमिशन रेडियो तरंगों और टेलीविजन एंटीना से होता है। प्रसार भारती के सीईओ जवाहर सिरकर व सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय के सचिव बिमल जुल्का ने भी सम्मेलन को संबोधित किया।
 

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You