बिन्नी ने कहा, पर्दे के पीछे केजरीवाल की कांग्रेस से साठगांठ

  • बिन्नी ने कहा, पर्दे के पीछे केजरीवाल की कांग्रेस से साठगांठ
You Are HereNcr
Thursday, January 16, 2014-12:48 PM

नई दिल्ली: दिल्ली में सरकार चला रही आम आदमी पार्टी (आप) के बागी विधायक विनोद कुमार बिन्नी ने मुख्यमंत्री और पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक अरविन्द केजरीवाल पर झूठ बोलने, दोहरे मापदंड अपनाने तथा कथनी करनी में अंतर रखने का आरोप लगाते हुए आज कहा कि अगर जनता के साथ किए गए वायदे 27 जनवरी तक पूरे नहीं किए गए तो वह जंतर मंतर पर अनिश्चितकालीन अनशन करेंगे।

बिन्नी ने मुख्यमंत्री के विरुद्ध बगावत का झंडा बुलंद करते हुए आप और कांग्रेस में साठगांठ का आरोप लगाया। उन्होंने पत्रकारों से कहा कि अगर केजरीवाल अपने वायदे पूरे नहीं कर पाते हैं तो उन्हें मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे देना चाहिए। विधायक ने केजरीवाल पर सत्ता में आते ही घंमडी होने समेत कई आरोप लगाए। हालांकि उन्होंने यह साफ किया कि अगर उन्हें पार्टी से निकाल भी दिया जाता है तो वह मुद्दे के आधार पर पार्टी में बने रहेंगे। बिन्नी ने कहा कि उन्होंने नौ माह तक पार्टी के लिए खून, पसीना बहाया है।

बिन्नी ने कहा कि केजरीवाल एक तानाशाह के तरह बर्ताव करते हैं और अहम मुद्दों पर चार-पांच लोगों के साथ बंद कमरे में बाचतीत करते हैं। उन्होंने कहा कि केजरीवाल, मनीष सिसोदिया, संजय सिंह एवं गोपाल राय बचपन के दोस्त हैं और इन लोगों को लाभ देने के लिए समीकरण बनाए जाते हैं। यही लोग मिलकर पार्टी चला रहे हैं और इनके खिलाफ बोला जाए तो केजरीवाल के गुस्से का शिकार होना पडता है। उन्होंने आरोप लगाया कि विधान सभा सीट का टिकट पहले ही तय हो चुका था और लोक सभा का टिकट भी तय हो चुका है। विधान सभा टिकट के लिए 100लोगों का हस्ताक्षर नाटक था।

उन्होंने कहा कि मैं टिकट मांगने नहीं गया था। मैं सच्चाई सामने ला रहा हूं तो मुझे लालची कहा जा रहा है। जनता के सामने शब्दों का खेल किया गया। जनलोकपाल विधयेक, पानी, बिजली समेत कई वायदे अभी तक नहीं पूरे किए। ये घोषणा पत्र चतुराई से तैयार किया गया था। बिन्नी के कहा कि कांग्रेस और आप दोनों मिली हुई हैं। विधायक ने केजरीवाल को कांग्रस का नया हथियार बताते हुए कहा कि मुख्यमंत्री कांग्रेस के एके 2014 हैं। पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित के बेटे एवं सांसद संदीप दीक्षित और केजरीवाल के बीच नजदीकियां हैं।

उन्होंने कहा कि आंदोलन और चुनाव प्रचार के समय केजरीवाल कांग्रेस के भ्रष्ट नेताओं एवं मंत्रियों के खिलाफ कार्रवाई करने की बात करते थे। सत्ता में आने के बाद वह सब कुछ भूल गए। कहां गये उनके वायदे। अभी तक कांग्रेस के किसी भी नेता अथवा मंत्री के खिलाफ किसी तरह की कार्रवाई नहीं की गई।  बिन्नी ने आरोप लगाया कि कुल मिलाकर आप के हर फैसले में कांग्रेस की अहम भूमिका होती है। केजरीवाल का टिकट देते समय मापदंड अलग था और सरकार बनाते समय अलग। 

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You