बिहार: 17 साल बाद लड़की को मिला उसका चेहरा वापस

  • बिहार: 17 साल बाद लड़की को मिला उसका चेहरा वापस
You Are HereUttar Pradesh
Friday, January 24, 2014-11:57 AM

नई दिल्ली: शिल्पा (बदला नाम) एक अवांछित बच्ची जिसे सासाराम, बिहार के रहने वाले उसके माता-पिता ने एक कूड़ेदान में फैंक दिया  था। पड़ोस के एक वकील उसे देखा और उसे घर ले गई। चूहे उस नवजात की नाक को कुतरकर खा गए थे। 16 साल तक उसे कुरूप चेहरे के साथ रहना पड़ा। लोग उसके विकृत चेहरे को देख कर डर जाते थे। जब उसको बाहर जाना होता था चेहरे को कवर करने के लिए दुपट्टे का सहारा लेना पड़ता था। 17 सालों बाद उसका चेहरा उसे वापस मिल गया। 

ग्यारहवीं कक्षा की उस छात्रा ने बताया, उसके माथे और पसली उपास्थि की मांसपेशियों का प्रयोग कर उसके नाक के पुनर्निर्माण के लिए हाल ही में एक शहर के अस्पताल में एक प्लास्टिक सर्जरी करानी पड़ी। उपचार की लागत उसकी परवरिश और शिक्षा के लिए सहायता प्रदान करने वाली एक एन.आर.आई. महिला, वकील की बेटी ( अब मृत ), द्वारा वहन किया गया। डाक्टरों ने बताया कि, लड़की का नाक नहीं था , वह हमारे अस्पताल में आई और उसकी सर्जरी की गई। अब उसके पास एक प्राकृतिक जैसा दिखने वाला नाक है और चेहरा भी बेहतर लग रहा है। इस सर्जरी को 4 महीने की अवधि में कई चरणों में आयोजित किया गया।

अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन

Recommended For You