नेताओ की आपसी लड़ाई में पीस रहा आम आदमी

  • नेताओ की आपसी लड़ाई में पीस रहा आम आदमी
You Are HereNational
Saturday, February 01, 2014-6:44 AM

नई दिल्ली: आज जिसे देखो हर एक अपनी पार्टी बनाकर लोगों का विश्वास जीत कर सुर्खियों में बना रहना चाहता हैं। लम्बे समय से चली आ रही राजनीतिक पार्टियां विकास के नाम पर देश को ठग रही है ओर इनके बीच पीसता है तो सिर्फ आम आदमी।

चुनावो के दौर में नेता लोगों का विश्वास जीतने के लिए क्या कुछ़ नहीं करते उनके घरों तक जा पहुचते है जिस गली मुहल्ले में जहां कभी शोर शराबा सुनाई न दिया हो वहां जा कर भाषण देते है। दे भाषण पे भाषण जीतने के बाद हम आपको ये देगें वो देगे ओर फिर क्या न रोटी ओर न ही राशन। अब आम आदमी की जुबान यह कहने से नही थकती कि देश को चलाने वाली सभी पार्टियो के नेता भ्रष्ट ओर चोर है सभी आपनी जेब भर रहे हैं

नई से नई पार्टिया बनती जा रही है। पुरानी पार्टिया ने देश का विकास किया नहीं ओर हां अगर कोई ऐसा इंसान कुछ करने के लिए उठ भी जाता है तो उसे भी शडय़त्र में फसा लिया जाता है। घोटाले पे घोटाले हो रहे है करोड़ो, अरबो रुपयों से नेताओ की जेबे भरी पड़ी है। घोटाले में अगर कोई नेता पकड़ा जाता है तो वो थोड़ी देर की सजा काटने के बाद फिर से राजनीति में कूद पड़ता है। भ्रष्टाचार को मिटाने वाले अगर खुद ही भ्रष्ट हो तो भ्रष्टाचार देश से कैसे मिट सकता है।

देश के बेरोजगार, गरीब,अनपढ़ लोगों के लिए सरकार ने कई योजनाएं चलाई लेकिन उस योजना के तहत काम कर रहे लोगों को लाभ की जगह सिर्फ नुक्सान ही हुआ मिड डे मिल योजना पिछ़ले दिनो कई राज्यो में स्कूलो में पढ़ रहे बच्चे मिड डे मिल भोजन खा कर बीमार पढे ओर कई बच्चों के लिए ये भोजन मौंत का नेवाला बना। कई नयी योजनाएं बनाई जा रही है लेकिन लाभ किसी को नहीं मिल पाता।

आज भी लोग सड़को पर सो रहे है खाने के लिए रोटी नही, सिर पर छत नहीं, पहनने को कपड़ा नहीं, पढ़े लिखे व्यक्ति को रोजगार नहीं मिल रहा। आएं दिन महंगाई बढ़ती जा रही है आज हर आम आदमी त्रस्त है व चाहता है सिर्फ विकास ..अगर पार्टियों के सभी नेता मिल कर काम करे तो देश का काफी विकास हो सकता है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You