खाप पर केजरीवाल ने यू-टर्न लिया

  • खाप पर केजरीवाल ने यू-टर्न लिया
You Are HereNational
Sunday, February 02, 2014-12:09 AM

नई दिल्ली : राजनीति से भ्रष्टाचार को दूर करने का नारा देने वाले दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल चुनावी बिसात पर हर चाल अब संभल-संभलकर चल रहे हैं। खासतौर से हरियाणा की राजनीति को लेकर।

हरियाणा के गांवों में कुछ दिन पहले तक खाप के विरोध में मुखर रहने वाले केजरीवाल को लगता है कि अब इस बात का अहसास हो गया है कि हरियाणा की जमीं पर पांव जमाने के लिए खाप का विरोध करना काफी महंगा साबित हो सकता है। 

शायद राजनीति की नजाकत को देखते हुए ही केजरीवाल ने अब हरियाणा में चुनावी समीकरण बदलने की चाह में यू-टर्न ले लिया है। सच्चाई से रू-ब-रू होकर इसी वजह से उन्होंने अब खाप के समर्थन में राग अलापने शुरू कर दिए हैं। उनकी समझ में आ गया है कि हरियाणा में चुनाव के दौरान खाप का विरोध करने से किसी भी तरीके से सफलता हासिल नहीं की जा सकती।

याद रहे कि कुछ समय पहले केजरीवाल ने कुछ मामलों को लेकर यह कहा था कि खापों का कोई औचित्य नहीं है। हो सकता है कि उन्होंने यह बात इज्जत के नाम पर हत्या यानी ऑनर किङ्क्षलग पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कही हो लेकिन यह बयान देकर उन्होंने हरियाणा में खाप के नेताओं को खफा कर दिया था। 

लेकिन खाप के नेता जब केजरीवाल के इस बयान का खुलकर विरोध करने पर उतर आए, तो उन्हें इस बात का अहसास हो गया कि चुनाव के दौरान खाप का विरोध कर आप के प्रत्याशी हरियाणा में चुनाव नहीं जीत सकते। वैसे भी अरविंद केजरीवाल खुद भी हरियाणा के हिसार के ही रहने वाले हैं, उनके रिश्तेदार आज भी वहीं रहते हैं। वैसे यदि खाप के फैसलों का आंकलन करें तो साफ है कि ऑनर किङ्क्षलग को छोड़कर खाप ने कोई ऐसा फैसला नहीं दिया है जिससे लोगों का नुक्सान या उनके हितों पर कुठाराघात हुआ हो। 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You