महिला स्वयंसेवी समूहों के मामले में गुजरात से आगे है बिहार: रमेश

  • महिला स्वयंसेवी समूहों के मामले में गुजरात से आगे है बिहार: रमेश
You Are HereNational
Tuesday, February 04, 2014-1:53 AM

नई दिल्ली: ग्रामीण विकास मंत्री जयराम रमेश ने आज गुजरात में महिला स्वयंसेवी समूहों के खराब प्रदर्शन के लिए इस राज्य की नरेंद्र मोदी सरकार पर निशाना साधा और कहा कि जदयू शासित बिहार ने इस मामले में गुजरात से काफी बेहतर करके दिखाया है। इस संदर्भ में, रमेश ने संबंधित जिलों में अच्छे नतीजों के लिए उत्तर प्रदेश में राहुल गांधी की अध्यक्षता वाले एनजीओ ‘राजीव गांधी महिला विकास परियोजना’ के कामकाज की भी प्रशंसा की।

रमेश ने कहा कि इस एनजीओ द्वारा किये गये काम के बाद उत्तर प्रदेश की समाजवादी पार्टी सरकार ने इस कार्यक्रम का अन्य जिलों में प्रसार करने के लिए सहमति पत्र पर हस्ताक्षर किये। महिला स्वयंसेवी समूह केन्द्र सरकार की महत्वाकांक्षी राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के अंतर्गत संचालित होते हैं जिनका उददेश्य ग्रामीण क्षेत्रों में गरीबी को कम करना है।

रमेश ने यहां संवाददाताओं से कहा कि बिहार में महिला स्वयंसेवी समूह गुजरात से ज्यादा सफल हैं। बिहार में, बैंकों द्वारा महिला स्वयंसेवी समूहों को 220 करोड़ रूपए दिए गए जबकि गुजरात में यह आंकड़ा 119 करोड़ रूपए है। उन्होंने कहा कि पिछले पांच छह वर्षों में, बिहार ने महिला सशक्तिकरण के क्षेत्र में सबसे ज्यादा प्रगति की है। रमेश ने कहा, ‘‘उनका (बिहार का) महिला स्वयंसेवी समूहों के लिए काम प्रशंसनीय है।’’


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You