क्या समाप्त हो चुका है चुनाव प्रचार में मंदिर मुद्दा?

  • क्या समाप्त हो चुका है चुनाव प्रचार में मंदिर मुद्दा?
You Are HereUttar Pradesh
Thursday, February 06, 2014-2:11 PM

फैजाबाद: लोक सभा चुनाव हो या विधानसभा वोट के लिए मंदिर मुद्दे की बात न हो ऐसा हो नही सकता। भारतीय इतिहास में यह पहली बार हो रहा है कि लोक सभा चुनाव में मंदिर मुद्दे पर कोई भी पार्टी कुछ भी बोलने को तैयार नही है। राम मंदिर आंदोलन पिछले कई चुनावों में भले निर्णायक रहा हो पर इस बार के लोकसभा चुनाव के मोर्चे पर इस आंदोलन की भूमिका नगण्य है।

न केवल भाजपा के मौजूदा प्रतीक पुरुष नरेंद्र मोदी राम मंदिर मुद्दे का जिक्र करने से परहेज कर रहे हैं, बल्कि राम मंदिर आंदोलन के वाहक भी चुनाव को लेकर उत्सुकता नहीं दिखा रहे हैं।  कुछ भी हो एक बात तो साफ है कि अब अगर कोई भी पार्टी इस मुद्दे पर बात करती है तो वह खुद ही इसमें घिर जायेगी। क्योंकि ये सब मुद्दे कट्टर साम्प्रदायिकता को बढ़ावा देते हैं। और कट्टर साम्प्रदायिकता के मुद्दे हमारे समाज के  लिए हितकर नही हैं।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You