ऐसे बढ़ जाता है घर की बिजली का बिल

  • ऐसे बढ़ जाता है घर की बिजली का बिल
You Are HereNational
Monday, February 24, 2014-12:33 AM
नई दिल्ली(रोहित राय): बिजली के मीटर और घर की वायरिंग में न्यूट्रल व अर्थ के तार के मिलने से बिजली की खपत बढ़ जाती है। इन दोनों तारों का मेल बिजली की खपत में बढ़ौतरी कर सकता है। अगर मीटर में अर्थ लीकेज (ई.एल.) की बत्ती जल रही है या फिर ब्लिंक कर रही है तो समझ लीजिए कि आपके मीटर या घर की वायरिंग में कोई न कोई समस्या जरूर है। इससे बिजली की खपत किए बिना ही आपका बिजली का मीटर दौड़ता रहेगा और यूनिट में भी इजाफा होगा।
 
वायरिंग में अर्थ की तार का प्रमुख कार्य करंट को रोकना होता है और न्यूट्रल की तार का विशेष काम वोल्टेज को सामान्य बनाए रखना होता है। इन दोनों तारों का मेल खपत को बेवजह बढ़ा देता है, जिससे बिना अधिक बिजली का इस्तेमाल किए बिल उपभोक्ता की उम्मीद से ज्यादा आता है। पश्चिमी दिल्ली के राजौरी गार्डन इलाके में पिछले 10 साल से बिजली का काम कर रहे सचन ने बताया कि मीटर व घर दोनों की वायरिंग में से अगर किसी एक की वायरिंग में भी न्यूट्रल और अर्थ की तार आपस में मिल रही है तो ई.एल. की बत्ती जलने लगती है। 
यह बत्ती तभी जलती है जब वायरिंग में न्यूट्रल और अर्थ की तार एक दूसरे से सट रही हो। इस स्थिति में बिजली का इस्तेमाल किए बिना ही खपत बढ़ जाती है और बिल भी भारी भरकम आता है। यह समस्या ज्यादा बड़ी नहीं है। लोग चाहें तो बत्ती जलने पर इसकी जांच अपने घर के आसपास किसी निजी बिजली मकैनिक से भी करा सकते हैं। जांच में ज्यादा समय नहीं लगता। सचन के मुताबिक अगर कोई व्यक्ति टी.वी. बंद कर देता है लेकिन उसका मेन स्विच बंद नहीं करता तो बिजली का इस्तेमाल जारी रहता है और मीटर भी भागता रहता है। 
ऐसा नहीं है कि ई.एल. बत्ती की जांच कराने के लिए लोगों को उसी कंपनी से संपर्क करना होगा जिस बिजली कंपनी ने उनके घर में मीटर लागा रखा है। निजी बिजली कंपनी बी.एस.ई.एस. के प्रवक्ता सी. पी. कामत ने बताया कि मीटर में ई.एल. की बत्ती अधिकतम तभी जलती है जब घर की वायरिंग में कोई न कोई समस्या हो। उपभोक्ता शिकायत दर्ज करा सकते हैं और शिकायत पर उचित कार्रवाई की जाएगी और उपभोक्ताओं की समस्या का समाधान किया जाएगा।

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You