नशामुक्त बनाने के लिए गुरुघर से जोड़ेगी कमेटी

  • नशामुक्त बनाने के लिए गुरुघर से जोड़ेगी कमेटी
You Are HereNational
Thursday, March 20, 2014-12:03 AM

नई दिल्ली : गुरु गोविंद  सिंह द्वारा सिखों को मानसिक, रूहानी एवं शारीरक रूप से सेहतमंद रखने के लिए शुरू किए गए शस्त्रकला मुकाबलों के रूप में जाने जाते एवं खालसे की चड़दीकला एवं सूरवीरता के प्रतीक होला मोहल्ला मनाया गया।

इस मौके पर नौजवानों की सेहत के लिए युद्ध स्तर पर प्रयास करने का गुरुद्वारा कमेटी ने संकल्प लिया। दिल्ली के गुरुद्वारा दमदमा साहिब में गुरमति समागमों के दौरान दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी ने नौजवानों को चुस्त एवं तंदरूस्त रखने के लिए शारीरक एवं मानसिक सेहतमंद माहौल उपलब्ध करवाने के लिए नौजवानों को कबड्डी जैसे खेल एवं गत का आदि से जोडऩे का फैसला लिया। साथ ही इस तरह के बड़े आयोजन करने का दावा भी किया।

इस मौके पर सिख नौजवानों को नशामुक्त वातावरण शब्द गुरु से जोड़कर देने का भी कमेटी ने दावा किया।गुरुद्वारा कमेटी के अध्यक्ष मनजीत सिंह जी.के. ने होला मोहल्ला के संक्षिप्त इतिहास से परिचित करवाते हुए नौजवानों को खेलों से जुडऩे की भी प्ररेणा दी। 23 मार्च को गुरुद्वारा बंगला साहिब के सरोवर की सफाई के लिए होने जा रही कार सेवा में सभी कारसेवा संप्रदायों के मुखियों का आह्वान किया। जी.के . ने दिल्ली फतेह दिवस समागम की तर्ज पर भुले-विसरे सिख इतिहास से संगतों को जोडऩे का भरोसा भी दिया।


धर्म प्रचार मुखी परमजीत सिंह राणा ने श्री अकाल तख्त साहिब विरोधी लोगों को कौम का दीमक करार देते हुए संगतों को ऐसे लोगों से सचेत रहने की बात की। शिरोमणी रागी बलबीर सिंह, अमरजीत सिंह पटियाला, मनिन्दर सिंह श्रीनगर वाले, जगप्रीत सिंह पटियाला ने इस अवसर पर संगत को मनोहर कीर्तन द्वारा निहाल किया।

इस मौके पर शिरोमणि अकाली दल के वरिष्ठ नेता कुलदीप सिंह भोगल, गुरबचन सिंह चीमा, कुलदीप सिंह साहनी, दर्शन सिंह, सतपाल सिंह, परमजीत सिंह चंढोक, रवैल सिंह, मनमोहन सिंह एवं गुरुद्वारा दमदमा साहिब के चेयरमैन हरमीत सिंह भोगल भी मौजूद थे।
 

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You