पिता को है बच्चे को गोद देने का अधिकार: उच्च न्यायालय

  • पिता को है बच्चे को गोद देने का अधिकार: उच्च न्यायालय
You Are HereNational
Saturday, March 01, 2014-2:59 PM

मदुरै: मद्रास उच्च न्यायालय की खंडपीठ ने अपने एक फैसले में कहा कि बच्चे की मां के मरने के बाद पिता बच्चे का वैधानिक अभिभावक होता है और उसे अपना बच्चा किसी को गोद देने का भी अधिकार है।  न्यामूर्ति एस.तमिलवनन और  न्यामूर्ति वी.एस.रवि ने सात माह की एक बच्ची की नानी की याचिका रद्द करते हुए कहा कि इतनी अधिक उम्र में उसके नाना नानी उसकी उचित देखभाल नहीं कर सकते हैं। अपनी याचिका में बच्ची की नानी ने कहा था कि उनकी बेटी शाति की शादी रामलिंगम से हुई थी, बेटी की कुछ साल पहले मृत्यु हो चुकी है। रामलिंगम ने इस बच्ची को उन्हें न देकर एक निसंतान दंपत्ति को गोद दे दिया है।

याचिकाकर्ता ने कहा कि बच्ची को उसके नए माता-पिता से वापस लेकर उसे उन्हें सौंप दिया जाए। रामलिंगम ने अदालत को बताया कि दंपत्ति ने गोद लेने की सारी औपचारिकताएं पूरी कर ली हैं। वो दंपत्ति बच्ची की देखभाल ठीक से कर रहे है और बच्ची उनके साथ रह कर खुश है। सुनवाई के बाद खंडपीठ ने नानी को आदेश दिया कि बच्ची की देखभाल गोद लेने वाले दंपत्ति को ही करने दी जाए।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You