लोकसभा चुनाव में किसान करेंगे ‘नोटा सत्याग्रह’

  • लोकसभा चुनाव में किसान करेंगे ‘नोटा सत्याग्रह’
You Are HereMadhya Pradesh
Saturday, March 08, 2014-11:12 AM

भोपाल: भारतीय किसान संघ ने बेमौसम वर्षा और ओलावृष्टि से रबी की फसलों के भारी नुकसान के लिए सभी राजनीतिक दलों पर राजनीतिक रोटियां सेंकने का आरोप लगाते हुए कहा है कि अगले माह होने वाले लोकसभा चुनाव में सभी किसान इन्हें सबक सिखाने के लिए ‘नोटा सत्याग्रह’ करेंगे।

संघ की मध्यप्रदेश इकाई के अध्यक्ष शिवकुमार शर्मा ‘कक्काजी’ ने यहां संवाददाताओं से बातचीत में कहा कि 13 मार्च को प्रदेश कार्यसमिति की बैठक में तय किया जाएगा कि प्रदेश भर में ‘नोटा सत्याग्रह’ जागरूकता यात्राएं कब से आयोजित की जाएं। उन्होंने कहा कि प्राकृतिक आपदा की वजह से प्रदेश में किसान की इस वर्ष सभी फसलें तबाह हो चुकी हैं। पहले खरीफ की सोयाबीन, कपास, तुअर, मूंग और अब रबी सीजन की गेहूं, चना, मटर, तिवड़ा, सरसों, मसूर भी नष्ट हो चुकी हैं।

इससे किसान दस साल पीछे चला गया है। शर्मा ने आरोप लगाया कि प्रदेश में सत्तारूढ़ भाजपा एवं प्रमुख विपक्षी दल कांग्रेस चुनाव की इस बेला में किसान हितैषी होने का ढोंग कर रहे हैं, लेकिन वास्तविकता इसके विपरीत है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और उनकी कैबिनेट केन्द्र सरकार के खिलाफ धरना कर रही है, तो कांग्रेस के नेता भाजपा को कोसने में लगे हैं। ऐसे में किसान की सुनवाई करने वाला कोई नहीं है।

उन्होंने कहा कि इसलिए किसान संघ ने तय किया है कि लोकसभा चुनाव में ‘उपरोक्त में से कोई नहीं’ (नोटा) का बटन दबाकर अपना विरोध दर्ज करने के लिए पूरे प्रदेश में ‘नोटा सत्याग्रह’ यात्रा निकाली जाए, ताकि किसानों को जागृत किया जा सके। संघ के प्रदेश अध्यक्ष ने इस बात पर भी हैरानी जताई है कि राज्य सरकार आपदा के बारह दिन बाद भी केन्द्र सरकार से मदद के लिए अपना ज्ञापन तैयार कर भेज नहीं पाई है और सर्वेक्षण का काम भी कछुआ चाल से चल रहा है।
 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You