NZ के खिलाफ दूसरे टैस्ट में इतिहास रच सकती है कोहली की सेना

  • NZ के खिलाफ दूसरे टैस्ट में इतिहास रच सकती है कोहली की सेना
You Are HereSports
Wednesday, September 28, 2016-11:10 AM

नई दिल्ली: कानपुर के ग्रीन पार्क में ऐतिहासिक 500वां टैस्ट मैच खेलने वाली भारतीय टीम जब शुक्रवार को कोलकाता के ईडन गार्डन्स में न्यूजीलैंड के खिलाफ दूसरा मैच खेलने के लिए उतरेगी तो यह उसका घरेलू धरती पर 250वां टैस्ट मैच होगा। भारत ने अब तक अपनी सरजमीं पर 249 टैस्ट मैच खेले हैं जिनमें से उसने 88 में जीत दर्ज की है जबकि 51 में उसे हार मिली है। एक मैच टाई रहा है जबकि 109 मैच ड्रा छूटे हैं। विदेशी धरती पर भारत ने 251 मैचों में से 42 में जीत हासिल की जबकि 106 में उसे हार मिली और 103 मैच ड्रा रहे लेकिन ग्रीन पार्क के बाद अब ईडन गार्डन्स भी ऐतिहासिक मैच बनने जा रहा है। 

ईडन में जीत भारत को बनाएगी ‘नंबर वन’
भारतीय क्रिकेट टीम के पास न्यूजीलैंड के खिलाफ शुक्रवार से कोलकाता के ईडन गार्डन में शुरू होने जा रहे दूसरे क्रिकेट टैस्ट में जीत दर्ज करने पर पाकिस्तान को पछाड़कर दुनिया की नंबर एक टैस्ट टीम बनने का मौका होगा। अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आई.सी.सी.) के अनुसार यदि भारतीय क्रिकेट टीम न्यूजीलैंड के खिलाफ ईडन गार्डन में शुरू होने जा रहे टैस्ट में जीत दर्ज कर लेती है तो वह मौजूदा नंबर एक टीम पाकिस्तान को पीछे छोड़ते हुए शीर्ष स्थान पर पहुंच जाएगी।  विराट कोहली की कप्तानी वाली टीम इंडिया अब नंबर एक बनने से केवल एक कदम की दूरी पर है। न्यूजीलैंड के खिलाफ सीरीज से पहले भारतीय टीम पाकिस्तान से मात्र एक अंक पीछे थी और उसे आई.सी.सी. टैस्ट रैंकिंग में शीर्ष पर पहुंचने के लिए कीवी टीम से सीरीज कब्जाना जरूरी था। 

ईडन में भारत का 40वां टैस्ट 
यह भी दिलचस्प है कि भारत ने अपनी सरजमीं पर सर्वाधिक टैस्ट मैच ईडन गार्डन्स में ही खेले हैं। कोलकाता के इस मैदान पर न्यूजीलैंड के खिलाफ उसका कुल 40वां टैस्ट मैच होगा। अभी तक ईडन गार्डन्स पर जो 39 मैच खेले गए हैं, उनमें भारत ने 11 में जीत दर्ज की है जबकि 9 में उसे हार मिली है। भारत के लिए हालांकि दिल्ली का फिरोजशाह कोटला और चेन्नई का एम.ए. चिदम्बरम स्टेडियम अधिक भाग्यशाली रहे हैं। इन दोनों मैदानों पर भारत ने 13-13 जीत दर्ज की हैं। उसने दिल्ली में 33 और चेन्नई में 31 टैस्ट मैच खेले हैं। 

तीसरा देश बन जाएगा भारत
इस मैच के साथ भारत दुनिया का तीसरा देश बन जाएगा जिसने अपनी सरजमीं पर 250 या इससे अधिक मैच खेले हैं। इंगलैंड ने अपनी धरती पर सर्वाधिक 501 टैस्ट मैच खेले हैं। उसके बाद ऑस्ट्रेलिया (404 टैस्ट) का नंबर आता है। वैस्टइंडीज (237) चौथे और दक्षिण अफ्रीका (217) 5वें नंबर पर है। 

आजादी से पहले खेले मात्र 3 मैच
भारत ने अपनी सरजमीं पर अपने अधिकतर मैच आजादी के बाद खेले हैं। उसने 1947 से पहले घरेलू मैदानों पर मात्र 3 मैच खेले थे जिनमें से 2 में उसे हार मिली थी। इनमें से पहला मैच उसने 15 दिसम्बर 1933 को इंगलैंड के खिलाफ मुंबई जिमखाना में खेला था जिसमें उसे 9 विकेट से हार मिली थी। यह वही मैच था जिसमें लाला अमरनाथ ने पदार्पण करते हुए शतक जड़ा था। 

धोनी की कप्तानी में अपनी धरती पर जीते 21 मैच
कप्तानों की बात करें तो महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी में भारत ने अपनी धरती पर सर्वाधिक 30 मैच खेले हैं जिनमें से 21 में उसे जीत और केवल 3 में हार मिली। मोहम्मद अजहरुद्दीन और सौरव गांगुली अन्य 2 कप्तान हैं जिनकी अगुवाई में भारत ने अपनी सरजमीं पर अच्छी सफलताएं हासिल कीं। अजहर की अगुवाई में भारत ने अपनी धरती पर 20 टैस्ट मैच खेले जिनमें से उसे 13 में जीत और 4 में हार मिली। गांगुली ने भारतीय धरती पर जिन 21 टैस्ट मैचों में कप्तानी की उनमें भारत ने 10 जीते और 3 हारे। सुनील गावस्कर की अगुवाई में खेले गए 29 टैस्ट मैचों में जीत-हार का आंकड़ा 7 और 2 का रहा जबकि मंसूर अली खां पटौदी की कप्तानी में भारत ने अपनी धरती जो 27 टैस्ट मैच खेले उनमें से उसे 6 में जीत और 9 में हार मिली। कपिल देव को भी 20 टैस्ट मैचों में भारतीय धरती पर कप्तानी करने का गौरव हासिल है लेकिन इनमें से टीम केवल 2 में जीत दर्ज कर पाई और 3 में उसे हार मिली। 

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You