इस शादी सीजन देश में 42 लाख शादियों से होगा ₹5.5 लाख करोड़ का कारोबारः CAIT

Edited By jyoti choudhary,Updated: 12 Feb, 2024 04:36 PM

this wedding season there will be a business of 5 5 lakh crore

शादियों के इस सीजन (15 जनवरी से 15 जुलाई) के दौरान 42 लाख शादियां होने का अनुमान लगाया जा रहा है। जिससे विवाह संबंधित खरीदारी और सेवाओं के माध्यम से करीब 5.5 लाख करोड़ रुपए का कारोबार हो सकता है। यह आकलन कंफेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) ने...

बिजनेस डेस्कः शादियों के इस सीजन (15 जनवरी से 15 जुलाई) के दौरान 42 लाख शादियां होने का अनुमान लगाया जा रहा है। जिससे विवाह संबंधित खरीदारी और सेवाओं के माध्यम से करीब 5.5 लाख करोड़ रुपए का कारोबार हो सकता है। यह आकलन कंफेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) ने राज्यों के विभिन्न 30 शहरों के व्यापारी और सेवा प्रदाताओं से बातचीत के आधार पर किया है।

दिल्ली में 4 लाख विवाह होने का अनुमान

कैट के राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीन खंडेलवाल ने बताया कि पिछले साल 14 दिसंबर को समाप्त हुए विवाह सीजन में लगभग 35 लाख विवाह हुए थे, जिनके खर्च का अनुमान 4.25 लाख करोड़ रुपए था। इस साल 15 जनवरी से 15 जुलाई तक शादियों के सीजन में 42 लाख शादियां हो सकती हैं। जिनसे 5.5 लाख करोड़ रुपए का कारोबार हो सकता है। दिल्ली में इस शादियों के मौसम में 4 लाख से अधिक विवाह होने की संभावना है। जिससे करीब 1.5 लाख करोड़ रुपए का कारोबार कारोबारियों को मिल सकता है।

शादियों पर खर्च होंगे 3 लाख से एक करोड़ रुपए

खंडेलवाल ने कहा कि इस विवाह सीजन के दौरान लगभग 5 लाख विवाह पर प्रति विवाह 3 लाख रुपए, 10 लाख विवाह पर प्रति विवाह 6 लाख रुपए और 10 लाख विवाहों पर प्रति विवाह 10 लाख रुपए खर्च होने का अनुमान है। 10 लाख विवाह ऐसे भी होंगे जिन पर प्रति विवाह 15 लाख रुपए खर्च होंगे, जबकि 6 लाख विवाह पर प्रति विवाह 25 लाख रुपए खर्च होंगे। इसके अलावा महंगे विवाहों में 60 हजार विवाह में प्रति विवाह 50 लाख रुपए और 40 हजार विवाह में प्रति विवाह एक करोड़ रुपए से भी अधिक खर्च हो सकते हैं।

विवाह में इन पर होता है खर्च

खंडेलवाल के कहा कि प्रत्येक विवाह के लिए लगभग 20 प्रतिशत खर्च दुल्हन और दुल्हे के पक्ष को जाता है, जबकि 80 प्रतिशत खर्च विवाह आयोजन को संपन्न कराने में शामिल तीसरी पक्षीय एजेंसियों को जाता है। विवाह के खर्च में घर की मुरम्मत और पेंटिंग, आभूषण, साड़ी, लहंगा-चुनरी, फर्नीचर, रेडीमेड कपड़े, कपड़े, जूते, विवाह और शुभकार्य कार्ड, सूखे मेवे, मिठाई, फल, पूजा वस्त्र, किराना, अनाज, सजावटी वस्त्र, घर की सजावट, इलेक्ट्रिकल यूटिलिटीज, इलेक्ट्रॉनिक्स, और विभिन्न उपहार आइटम पर खर्च शामिल हैं। 

इसके अलावा शादियों के लिए बैंक्वेट हॉल, होटल, ओपन लॉन, समुदाय केंद्र, सार्वजनिक पार्क, फार्महाउस, और विभिन्न अन्य विवाह स्थलों के साथ टेंट,डेकोरेशन,विवाह स्थल की सजावट, फूलों की सजावट, क्रोकरी, केटरिंग सेवाएं, यात्रा सेवाएं, कैब सेवाएं, पेशेवर स्वागत समूह, सब्जी विक्रेता, फोटोग्राफर, वीडियोग्राफर, बैंड, संगीत कलाकार , डीजे सेवाएं, विवाह बारात के लिए बग्घी,लाइट,ढोल, ताशे, नफ़ीरी, शहनाई सहित अन्य सेवाओं से भी बड़ा कारोबार मिलता है।

Related Story

India

397/4

50.0

New Zealand

327/10

48.5

India win by 70 runs

RR 7.94
img title
img title

Be on the top of everything happening around the world.

Try Premium Service.

Subscribe Now!