नेपाल: तारा एयरलाइंस का लापता विमान क्रैश, मुस्टांग में मिला मलबा...4 भारतीयों समेत 22 लोग थे सवार

Edited By Seema Sharma, Updated: 29 May, 2022 05:40 PM

nepal missing tara airlines plane crashes debris found in mustang

नेपाल में पोखरा से जोमसोम जा रहा लापता यात्री विमान क्रैश हो गया है। विमान का मलबा मुस्टांग में मिला है। विमान में 4 भारतीयों और क्रू मेंबर समेत 22 लोग सवार थे।

इंटरनेशनल डेस्क: नेपाल में पोखरा से जोमसोम जा रहा लापता यात्री विमान क्रैश हो गया है। विमान का मलबा मुस्टांग में मिला है। विमान में 4 भारतीयों और क्रू मेंबर समेत 22 लोग सवार थे। एयरपोर्ट अथॉरिटी का कहना है कि सुबह 10.35 बजे से विमान से कोई संपर्क नहीं हो पाया था, जिसके बाद से विमान की तलाश की जा रही थी। तारा एयर के प्रवक्ता सुदर्शन बरतौला ने नेपाल के सबसे बड़े मीडिया संस्थान कान्तिपुर को बताया है कि इस फ्लाइट पर कैप्टन प्रभाकर प्रसाद घिमिरे, सह-पायलट उत्सव पोखरेल और एयर होस्टेस किसमी थापा सवार थे।

15 मिनट बाद ही उसका नियंत्रण टूटा
‘तारा एयर' विमानन कंपनी के एक प्रवक्ता ने बताया कि ‘ट्विन ओट्टर 9एन-एईटी' विमान ने पोखरा से पूर्वाह्न करीब 10 बजे उड़ान भरी थी, लेकिन 15 मिनट बाद ही उसका नियंत्रण टॉवर से संपर्क टूट गया। प्रवक्ता ने बताया कि विमान में चार भारतीय, दो जर्मन और 13 नेपाली यात्रियों के अलावा चालक दल के तीन नेपाली सदस्य सवार थे। विमानन कंपनी ने यात्रियों की सूची जारी की है, जिसमें भारतीयों की पहचान अशोक कुमार त्रिपाठी, धनुष त्रिपाठी, ऋतिका त्रिपाठी और वैभवी त्रिपाठी के रूप में की गई है।

तलाश और बचाव अभियान जारी
नेपाल में भारतीय दूतावास ने ट्वीट किया, ‘‘तारा एयर उड़ान संख्या 9एनएईटी ने आज पूर्वाह्न नौ बजकर 55 मिनट पर पोखरा से उड़ान भरी थी। इसमें चार भारतीयों समेत 22 लोग सवार थे। यह विमान लापता हो गया है। तलाश और बचाव अभियान जारी है। दूतावास उनके परिवारों के संपर्क में है।'' दूतावास ने अपना आपात हॉटलाइन नंबर भी मुहैया कराया है। ‘माय रिपब्लिका' समाचार पत्र ने पोखरा हवाई अड्डा सूचना अधिकारी देव राज अधिकारी के हवाले से बताया कि चालक दल के सदस्यों का नेतृत्व कैप्टन प्रभाकर प्रसाद घिमिरे कर रहे थे। उत्सव पोखरेल सह चालक और किसमी थापा विमान परिचारिका के रूप में विमान के चालक दल में शामिल थे। विमानन सूत्रों ने बताया कि विमान को पश्चिमी पर्वतीय इलाके में जोमसोम हवाई अड्डे पर उतरना था, लेकिन पोखरा-जोमसोम हवाई मार्ग पर घोरेपानी के ऊपर आसमान में विमान का टॉवर से संपर्क टूट गया। जोमसोम हवाई अड्डे में एक हवाई यातायात नियंत्रक के अनुसार, जोमसोम के घासा में एक जोरदार आवाज सुनाई देने की अपुष्ट खबर मिली है।

विमान धौलागिरि इलाके में दुर्घटनाग्रस्त हुआ
‘माय रिपब्लिका' अखबार ने मुस्तांग के पुलिस उपाधीक्षक राम कुमार दानी के हवाले से बताया कि इस बात का संदेह है कि विमान धौलागिरि इलाके में दुर्घटनाग्रस्त हुआ है। इस बीच ‘माय रिपब्लिका' समाचार पत्र ने त्रिभुवन अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के महाप्रबंधक प्रेमनाथ ठाकुर के हवाले से बताया कि 10 जवानों और नागर विमानन प्राधिकरण के दो कर्मियों को लेकर नेपाल की सेना का एक हेलीकॉप्टर संभावित दुर्घटनास्थल नरसिंह मठ के निकट एक नदी के किनारे उतरा। दिलचस्प बात यह है कि ‘नेपाल टेलीकॉम' ने ‘ग्लोबल पोजिशनिंग सिस्टम' (जीपीएस) नेटवर्क के माध्यम से यह पता लगाया कि विमान के पायलट कैप्टन प्रभाकर घिमिरे का मोबाइल फोन कहां है, जिसके बाद विमान का पता लगाया गया। म्यागड़ी के मुख्य जिला अधिकारी चिरंजीवी राणा ने ‘द काठमांडू पोस्ट' समाचार पत्र को बताया कि खराब मौसम ने उस स्थान पर तलाशी के प्रयासों को बाधित किया है, जहां स्थानीय लोगों ने विमान को आखिरी बार देखा था।

विमान को आखिरी बार कहां देखा गया?
राणा के अनुसार, स्थानीय लोगों ने बताया कि विमान खैबंग में दो चक्कर लगाए और वह ‘लेटे पास' (2,500 मीटर) के निकट कीटी डंडा की ओर बढ़ गया। उन्होंने कहा, ‘‘स्थल की ओर पुलिस के एक दल को भेजा गया है। इस स्थल से लेटे तक 12 घंटे की पैदल यात्रा है। जिस जगह पर विमान को आखिरी बार देखा गया था, वहां मानवीय बस्तियां नहीं हैं।'' राणा ने कहा, ‘‘मौसम में सुधार होते ही हेलीकॉप्टर हवाई अभियान आरंभ करेगाा।'' लापता विमान की तलाश में पोखरा के लिए उड़ान भरने वाला हेलीकॉप्टर खराब मौसम के कारण कोई सफलता हासिल किए बिना लौट आया। देश के गृह मंत्री बाल कृष्ण खंड ने प्राधिकारियों को लापता विमान का पता लगाने के लिए तलाश अभियान तेज करने का निर्देश दिया है।

मुस्तांग प्रमुख जिला अधिकारी नेत्र प्रसाद शर्मा ने बताया कि गृह मंत्री के निर्देश के बाद धौलागिरि चोटी के निकटवर्ती पांच जिलों में सुरक्षा अधिकारियों से सतर्क रहने को कहा गया है। तलाश अभियान में मदद के लिए काठमांडू से एक एमआई-19 हेलीकॉप्टर भी भेजा गया है। विमानन कंपनी की वेबसाइट के अनुसार, तारा एयर नेपाली पर्वतीय इलाकों में संचालित होने वाली सबसे नयी एवं सबसे बड़ी सेवा प्रदाता कंपनी है। उसने ग्रामीण नेपाल विकसित करने के मिशन के साथ 2009 में कारोबार शुरू किया था। 

 

 

Related Story

India

179/5

20.0

South Africa

131/10

19.1

India win by 48 runs

RR 8.95
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!