देश

Analysis: एग्जिट पोल्स ही रहे नतीजे तो 2019 चुनाव में पैदा हो सकती है BJP के लिए परेशानी

Analysis: एग्जिट पोल्स ही रहे नतीजे तो 2019 चुनाव में पैदा हो सकती है BJP के लिए परेशानी

जालन्धर(नरेश कुमार): शुक्रवार को आए एग्जिट पोल के नतीजे यदि असल में परिणाम में बदले तो भाजपा के लिए 2019 के लोकसभा चुनाव के लिए बड़ी परेशानी पैदा हो सकती है। इन तीन राज्यों में लोकसभा की 65 सीटें हैं और इन 65 सीटों में से पिछले चुनाव में भाजपा ने 62 सीटें जीती थीं और महज 3 सीटें कांग्रेस के पक्ष में आई थीं लेकिन एग्जिट पोल के नतीजों से इन तीनों राज्यों में कांग्रेस जबरदस्त वापसी करती नजर आ रही है और पार्टी का वोट शेयर इन तीनों राज्यों में बढ़ा है। 

PunjabKesari

गठबंधन में कांग्रेस की हैसियत बढ़ेगी
पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों के नतीजे यदि एग्जिट पोल के मुताबिक आए तो इसका कांग्रेस को लोकसभा चुनाव के दौरान न सिर्फ फायदा  होगा बल्कि  वह लोकसभा चुनाव के लिए गठबंधन भी अपनी शर्तों पर करवा सकेगी। फिलहाल कोई भी बड़ा क्षेत्रीय नेता कांग्रेस के नेतृत्व को मन से स्वीकार नहीं कर रहा है और सीटों के आबंटन के मामले में भी कांग्रेस को छोटे-छोटे दलों की बात माननी पड़ रही है लेकिन यदि नतीजे कांग्रेस की उम्मीद के अनुरूप आए तो कांग्रेस केंद्र में भाजपा के खिलाफ बनने वाले राष्ट्रीय गठबंधन में निर्णायक स्थिति में आ जाएगी और फिर सीटों का आबंटन भी कांग्रेस की मर्जी के हिसाब से हो सकता है। इन नतीजों से सबसे बड़ा दबाव बहुजन समाज पार्टी और समाजवादी पार्टी पर पड़ेगा। ये दोनों पार्टियां कांग्रेस को उत्तर प्रदेश में सम्मानजनक सीटें नहीं दे रहीं लेकिन नतीजों के बाद इन दोनों बड़ी पार्टियों का रुख भी बदल सकता है। 

PunjabKesari
हार के डर से कम हुई मोदी की रैलियां
पांच राज्यों के विधानसभ चुनावों में भाजपा को अपनी स्थिति का पहले से अंदाजा हो गया था लिहाजा भाजपा ने चुनाव से पूर्व ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रैलियों की संख्या इन चुनावों में सीमित कर दी थीं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इन चुनावों में बहुत महज 32 रैलियां कीं ताकि खराब नतीजे आने की स्थिति में हार की ठीकरा प्रधानमंत्री पर न फूटे। पिछले साल अपने गृह नगर गुजरात में हुए विधानसभा चुनाव में महज 182 सीटों पर प्रधानमंत्री ने 34 रैलियां की थीं और रोड शो भी किए थे जबकि इस बार 5 राज्यों की 669 विधानसभा सीटों पर प्रधानमंत्री ने कोई रोड शो नहीं किया। 

PunjabKesari

दूसरी तरफ राहुल ने कांग्रेस की तरफ से ताबड़तोड़ प्रचार किया और रैलियों के साथ-साथ रोड शो भी किए। राहुल गांधी के लिए अपने नेतृत्व को स्थापित करने का यह बड़ा मौका था। अकेले राजस्थान में राहुल गांधी ने 3 दिन में 11 रैलियां कीं और रैलियों के दौरान प्रधानमंत्री के खिलाफ जमकर हमला बोला जबकि राजस्थान में भाजपा की साख बचाने के लिए प्रधानमंत्री ने 6 दिन में 12 रैलियां कीं। भाजपा की तरफ से प्रचार की कमान तीनों राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने संभाली और पार्टी अध्यक्ष अमित शाह ने भी जमकर रैलियां कीं।

Related News