नोटबंदी: पटेल की चुप्पी पर सवाल को दास ने नजर अंदाज किया

  • नोटबंदी: पटेल की चुप्पी पर सवाल को दास ने नजर अंदाज किया
You Are Herebanking
Wednesday, November 23, 2016-5:04 PM

नई दिल्ली: सरकार द्वारा 500 और 1,000 का नोट बंद करने के करीब 2 सप्ताह बाद भी रिजर्व बैंक के गवर्नर उर्जित पटेल ने इस मुद्दे पर सार्वजनिक तौर पर कुछ नहीं कहा है, उनकी चुप्पी को लेकर पूछे गए सवाल को वित्त मंत्रालय ने नजरअंदाज करते हुए आज कहा कि सरकार की नीतियों की जानकारी कौन देता है यह महत्वपूर्ण नहीं है, जानकारी देना अधिक महत्वपूर्ण है। सरकार ने 8 नवंबर को 500 और 1,000 का नोट बंद करने की घोषणा की थी। उसके बाद से इस मुद्दे पर सरकार की आेर से आर्थिक मामलों के सचिव शक्तिकान्त दास ने मोर्चा संभाला हुआ है। वह लगभग दैनिक आधार पर नकदी संकट को दूर करने को सरकार द्वारा उठाए जा रहे कदमों की जानकारी दे रहे हैं।  

दास ने कहा कि जानकारी कौन देता है इससे महत्वपूर्ण सूचना प्रदान करना है। उनसे आज पूछा गया था कि पटेल ने इस घोषणा के बाद एक भी सार्वजनिक बयान क्यों नहीं दिया है। इस पर दास ने कहा, ‘‘यह महत्वपूर्ण नहीं है कि कौन बोल रहा है। मैं सरकार की आेर से बात कर रहा हूं, अपनी निजी हैसियत से नहीं। एेसे में यह महत्व नहीं रखता कि कौन बोल रहा है और कौन नहीं।’’   

दास ने कहा, ‘‘हमें ये सब चीजें नहीं करनी चाहिए, सूचना देने के मकसद से कौन बता रहा है यह महत्वपूर्ण नहीं है। विचार यह है कि सरकार सभी सूचनाओं की जानकारी दे।’’ वित्त सचिव अशोक लवासा और बैंकिंग परिचालन विभाग को देखने वाले वित्तीय सेवा विभाग की सचिव अंजुली छिब दुग्गल ने भी इस मुद्दे पर कोई संवाददाता सम्मेलन नहीं किया है। रिजर्व बैंक मुद्रा जारी करता है और करेंसी का प्रबंधन केंद्रीय बैंक का प्रमुख काम है। मीडिया से बचने वाले पटेल ने 86 प्रतिशत करेंसी को बाहर किए जाने की घोषणा के बाद से नकदी के प्रबंधन पर कोई बयान नहीं दिया है।  


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You