Subscribe Now!

अब डिफाल्टरों की ज्वैलरी नीलाम करेगा SEBI

  • अब डिफाल्टरों की ज्वैलरी नीलाम करेगा SEBI
You Are HereBusiness
Tuesday, March 21, 2017-9:30 AM

नई दिल्ली: बाजार नियामक सेबी ऋण नहीं लौटाने वालों की जमीन और इमारत की नीलामी के बाद अब हजारों करोड़ रुपए की राशि की बरामदगी के लिए महाराष्ट्र के साई प्रसाद ग्रुप के आभूषणों (ज्वैलरी) की नीलामी करवाएगा। ग्रुप ने अवैध निवेश योजनाओं के जरिए लोगों से धन जुटाया था।

राशि वसूलने की प्रक्रिया के तहत भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड (सेबी) साई प्रसाद ग्रुप के सोने के 48 आभूषणों (3.21 किलो) की नीलामी करेगा। सेबी ने यह ज्वैलरी कुर्क करवा ली थी। इसके अलावा 50 कैरेट वजन के एक डायमंड और 254 ग्राम सोने की भी नीलामी की जाएगी। गोल्ड ज्वैलरी का रिजर्व प्राइज 68.85 लाख रुपए जबकि कुल मिला कर ज्वैलरी व डायमंड का रिजर्व प्राइज 82.2 लाख रुपए रखा गया है। नीलामी 11 अप्रैल को होगी। सेबी ने कहा कि संभावित बोलीदाता 30 मार्च को ज्वैलरी को देख सकते हैं और उसकी शुद्धता तथा गुणवत्ता को लेकर संतुष्टी कर सकते हैं।

फंसे कर्ज की सख्ती से वसूली की तैयारी 
बैंक लोन डिफॉल्टरों से निपटने के लिए केंद्र सरकार बड़े प्लान पर काम कर रही है। पी.एम.ओ., वित्त मंत्रालय और रिजर्व बैंक की हाल ही में हुई बैठकों के बाद माना जा रहा है कि सरकार जल्द ही फंसे कर्ज की वसूली पर बड़ा अभियान चला बड़े डिफॉल्टरों पर आपराधिक कार्रवाई की भी तैयारी में है। एन.पी.ए. पर काबू के लिए लोन सैटलमैंट स्कीम भी लाई जा सकती है। इसके अलावा कमजोर बैंकों को सरकार मदद देने पर भी विचार कर रही है। दरअसल सरकारी बैंकों का एन.पी.ए. बढ़कर 6.80 लाख करोड़ रुपए हो गया है। वर्ष 2016-17 में फंसा हुआ कर्ज 1 लाख करोड़ रुपए बढ़ा है जिसमें करीब 70 पर्सैंट बड़े कॉर्पोरेट घरानों के नाम हैं। बिजली, स्टील, इन्फ्रा, टैक्सटाइल सैक्टर का एन.पी.ए. सबसे ज्यादा है।

अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन

Recommended For You