धनतेरस पर करें स्वस्थ जीवन की कामना

  • धनतेरस पर करें स्वस्थ जीवन की कामना
You Are HereDharm
Tuesday, October 29, 2013-2:19 PM

पर्वपंचांग के अनुसार हर साल कार्तिक कृष्ण के 13वें दिन धनतेरस मनाया जाता है। यह मूलत: आयुर्वेद के जनक धन्वन्तरि के जन्म दिन के रूप में मनाया जाता है। धनतेरस के दिन नए बर्तन या सोना-चांदी खरीदने की परम्परा है। इस पर्व पर बर्तन खरीदने की शुरुआत कब और कैसे हुई, इसका कोई निश्चित प्रमाण तो नहीं है लेकिन ऐसा माना जाता है कि जन्म के समय धन्वन्तरि के हाथों में अमृत कलश था। यह एक कारण हो सकता है कि इस दिन बर्तन खरीदना लोग शुभ मानते हैं।

भारतीय संस्कृति के हर पर्व से जुड़ी कोई न कोई लोककथा है। धनतेरस पर्व से भी जुड़ी एक लोककथा कई युगों से कही-सुनी जा रही है। कथा देव-दानवों द्वारा समुद्र मन्थन से अमृत कलश ले प्रकट होने वाले धन्वन्तरि से संबंधित है, उन्होंने यमभाग पाने के लिए भगवान नारायण से याचना की थी।

भगवान नारायण ने कहा यमभाग जिन्हें मिलना था मिल चुका। अब कुछ नहीं हो सकता। तुम देवपुत्र हो तुम्हें दूसरे जन्म में जीवन की सार्थकता प्राप्त होगी। तुम्हारे द्वारा आयुर्वेद का प्रचार-प्रसार होगा और तुम उसी शरीर से देवत्व प्राप्त करोगे। भगवान धन्वन्तरि का प्राकट्य धनतेरस के दिन हुआ था अत: धनतेरस को उनकी जयन्ती के रूप में मनाया जाता है और उनकी पूजा कर स्वस्थ जीवन की याचना की जाती है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You