8 साल की बच्ची दे रही क़ुरान की तालीम !

You Are HereEngland
Sunday, November 20, 2016-1:57 PM
लंदनः 8 साल के किसी बच्चे के लिए एक अच्छी-ख़ासी मोटी किताब पढ़कर ख़त्म करना एक बेहद मुश्किल काम है, लेकिन ल्युटॉन की एक 8  साल की मुस्लिम बच्ची मारिया असलम ने पूरा क़ुरान ही ज़बानी याद कर रखा है और अब वो दूसरों को क़ुरान की तालीम देती हैं । मारिया ने 5 साल की उम्र से क़ुरान पढ़ना शुरू किया था।

मारिया असलम को 'इजाज़ा' से नवाज़ा गया है।इजाज़ा से नवाजे जाने का मतलब हुआ कि उन्हें पाक किताब को याद करने और उसे सुनाने में महारत हासिल है। क़ुरान में 114 चैप्टर और 75000 शब्द हैं। सोशल मीडिया पर मारिया के प्रशंसकों की लंबी तादाद है। अब मारिया ऑनलाइन ट्यूटोरियल शुरू करने जा रही हैं।मारिया इस बारे में कहती हैं, "मैं बहुत ख़ुश हूं. मेरे ऊपर एक बड़ी ज़िम्मेदारी दी गई है।मैं अपनी योग्यता के मुताबिक़ इसे पूरा करने की भरपूर कोशिश करूंगी। "

मारिया कहती हैं, "एक मुस्लिम होने के नाते हमें क़ुरान पढ़ना होता है इसलिए मैंने क़ुरान पढ़ना शुरू किया. मुझे यह आसान लगा और इसके बाद मैंने इसे याद करना शुरू किया." मारिया की अम्मी के लिए यह फ़ख़्र की बात है. मारिया को इस मुक़ाम तक पहुंचाने में उनका हमेशा साथ रहा है। मारिया को पहले से ही फ़ेसबुक पर तकरीबन 90,000 लोग फॉलो करते हैं।दर्जनों लोग क़ुरान को समझने के लिए उनसे नियमित रूप से संपर्क करते हैं। 
 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You