अफगानिस्तान में कैदियों की रिहाई को लेकर अमेरिका चितिंत

  • अफगानिस्तान में कैदियों की रिहाई को लेकर अमेरिका चितिंत
You Are HereInternational
Friday, January 10, 2014-2:17 PM

काबुल: अफगानिस्तान अमेरिका द्वारा सुरक्षा के लिए खतरनाक माने जाने वाले 88 कैदियों में से केवल 16 के विरूद्ध मुकदमा चलाएगा और बाकी को रिहा कर देगा। यह जानकारी कल अफगानिस्तान सरकार के प्रवक्ता ने दी। अमेरिका अफगानिस्तान के इस निर्णय के विरूद्ध है और वह मानता है कि हत्या तथा बम धमाकों के आरोप में पकडे गए इन कैदियों की रिहाई से आतंकवाद को बढावा मिलेगा। यह बात वाशिंगटन में अमेरिकी विदेश विभाग के प्रवक्ता ने कही। अमेरिका ने इस रिहाई का कडा विरोध किया है।

अफगानिस्तान के इस कदम से अमेरिका के साथ उसके संबन्धों में और तनाव आएगा। राष्ट्रपति हामिद करजई द्वारा अभी तक सुरक्षा समझौते पर हस्ताक्षर नहीं करने से अमेरिका पहले से ही नाराज है। अगर वह इस समझौते पर हस्ताक्षार नहीं करते हैं तो अमेरिका 2014 के अंत तक इस देश से अपने सभी सैनिकों को वापस कर लेगा। अफगानिस्तान का कहना है कि उसके पास केवल 16 के विरूद्ध सबूत हैं अत: वह बिना सबूत वाले अफगानिस्तानियों को जेल में बंद नहीं रख सकता।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You