इन तस्वीरों का सच जान रह जाएंगे दंग !

You Are HereInternational News
Monday, November 07, 2016-1:38 PM

नई दिल्ली : पिछले दिनों सीरिया में हवाई हमले का शिकार हुए उमरान की फोटो वायरल हुई थी। पूरी दुनिया में लोगों ने उसे और अलेप्पो की दुर्दशा को लेकर अपनी संवेदना जाहिर की थी। हालांकि, सीरिया के प्रेसिडेंट बशर अल-असद अब उस फोटो को फेक करार दे रहे हैं। हालांकि, उसे मलबे से निकालने वाले वॉलन्टियर्स से लेकर मैडीकल टीम और चश्मदीदों ने उनका दावा ठुकरा दिया।  पहले भी वायरल फोटोज को लेकर इस तरह के सवाल उठते रहे हैं। कई बार ये फेक भले नहीं निकलीं लेकिन इनके पीछे की सच्चाई कुछ और ही निकली। यहां हम ऐसी ही कुछ वायरल फोटोज के बारे में बता रहे हैं, जिन्हें दुनिया ने किसी और रूप में जाना और इनके पीछे की सच्चाई कुछ और ही थी। 

1. नेपाल भूकंप की इस फोटो का सच
दावा- ये फोटो पिछले साल नेपाल के भूकंप के दौरान सोशल मीडिया पर वायरल हो गई थी। इसमें ढाई साल की बच्ची को उसका चार साल का भाई प्रोटेक्ट कर रहा है। दावा किया गया था कि नेपाल भूकंप में ये बच्चे अनाथ हो गए हैं।  
सच- ये फोटो असल में वियतनाम की है, जो फोटोग्राफर ना सोन ग्यूएन ने अक्बतूर 2007 में ली थी। कैन टी गांव में ये बच्ची किसी अजनबी से डर गई थी और उसका भाई उसे प्रोटेक्ट कर रहा था। ये अनाथ भी नहीं हैं। 

2. कुर्दिश फाइटर को लेकर दावों का सच
दावा-एंजिल ऑफ कोबानी के नाम से इस लड़की के फोटोज वायरल हुईं थीं। दावा किया गया था कि इस कुर्दिश फाइटर ने अकेले ही इस्लामिक स्टेट के 100 फाइटर्स को मार डाला। 
सच- इस लड़की की पहचान पूर्व लॉ स्टूडेंट के तौर पर सामने आई थी। इससे मिलने वाली स्वीडिश जर्नलिस्ट ने बताया था कि ये कोबानी में होम गार्ड और पुलिस फोर्स के लिए वॉलिन्टियर के तौर पर काम कर रही थी। ये फ्रंटलाइन फाइटर नहीं थी, इसलिए ये मुमकिन नहीं कि इसने इतनी बड़ी संख्या में आतंकियों की जान ली हो। 

3.तीन ब्रैस्ट वाली लड़की का सच
दावा-जेस्मिन ट्रीडेविल नाम से इस महिला की फोटो तीसरे ब्रैस्ट इम्प्लांट के चलते वायरल हो गई थी। उसका दावा था की सर्जिकल प्रोसीजर के जरिए उसने तीसरा ब्रैस्ट इम्प्लांट कराया।  
सच- इस महिला का असली नाम अलीशा हेजलर पता चला। ये पेशे से पॉप स्टार है और फ्लोरिडा के टैम्पा की रहने वाली है। इतना ही नहीं उसके तीसरे ब्रैस्ट की बात भी झूठी निकली। ये फोटो थर्मल कैमरे से ली गई थी और उसी के जरिए ये फेक फोटो तैयार की गई। 

4.कब्र के बीच लेटे बच्चे की फोटो का सच
दावा-सीरियन वॉर के शिकार के तौर पर इस बच्चे की फोटो सोशल मीडिया पर वायरल हुई थी। दावा किया गया था कि बच्चा युद्ध में मारे गए अपने पेरेंट्स की कब्र के बीच में लेटा है।  
सच-ये फोटो सऊदी अरब के फोटोग्राफर अब्देल अल-अतीबी ने अपने एक कन्सेप्चुअल प्रोजेक्ट के लिए ली थी। इसमें दिखाई गई कब्र नकली है और बच्चा फोटोग्राफर का भतीजा है। ये फोटो उन्होंने जनवरी 2014 में इंस्टाग्राम पर पोस्ट की थी, जो सीरिया वॉर की फोटो के तौर पर वायरल हो गई। फोटो वायरल होने के बाद फोटोग्राफर ने अपने प्रोजेक्टर की कुछ और फोटोज पोस्ट कीं ताकि सच्चाई लोगों तक पहुंच सके। 

5. मिलिट्री हैलिकॉप्टर पर शार्क हमले का सच 
दावा-सैन फ्रांसिस्को बे की ये फोटो इंटरनेट पर बहुत वायरल हुई थी। दावा किया गया था कि ये फोटो ब्रिटिश नेवी की मिलिट्री एक्सरसाइज के दौरान ली गई है। ये भी कहा गया था कि नेशनल जियोग्राफिक के द फोटो ऑफ द ईयर के लिए भी इसे नॉमिनेट किया गया है।
सच-ये दो अलग-अलग फोटोज हैं। इसमें से एक व्हेल की फोटो साउथ अफ्रीकी फोटोग्राफर चार्ल्स मैक्सवेल ने ली थी। वहीं, गोल्डन गेट ब्रिज के पास मंडराते यूएसएएफ हैलिकॉप्टर की फोटो लांस चियुंग ने ली थी। इन दोनों फोटो को मिलाकर ये फोटो तैयार की गई है, क्योंकिं सैन फ्रांसिस्को बे पर व्हाइट शार्क के हैलिकॉप्टर पर अटैक का कभी कोई मामला सामने आया ही नहीं है।

6. अलास्का गर्वनर की इस फोटो का सच 
दावा- अलास्का गर्वनर सराह पालिन की ये फोटो काफी वायरल हुई थी, जिसमें वो हाथों में गन लिए अमेरिकी झंडे की बिकनी में नजर आईं थी। ये फोटो इंटरनेट पर उस वक्त सर्कुलेट हुई थीं, जब उन्हें जॉन मैकेन के वाइस प्रेसिडेंशियल कैंडिडेट के तौर पर चुना गया था।  
सच-ये फोटो मॉर्फिंग के जरिए बनाई गई थी। किसी ने शरारती ने मार्च के दौरान की एक फोटो से सराह का सिर अलग किया और इसे बिकनी पहने एक मॉडल की फोटो पर जोड़ दिया। इस मॉडल और सराह की असल फोटोज फ्लिकर डॉटकॉम में पोस्ट भी की थी, जिसमें सच्चाई सामने आ गई थी। 


7. स्कॉटलैंड के फेयरी पूल की फोटो का सच 
दावा-ये फोटो 2013 में वायरल हो गई थी। इसे स्कॉटलैंड के फेयरी पूल इस्ले ऑफ स्काई बताया गया था। नीले रंग की लेक के किनारे लगे पेड़ पौधों के रंग बैंगनी थे। 
 सच- ये फोटो न्यूजीलैंड के शॉटओवर नदी की निकली। इसके किनारे लगे पेड़-पौधों का रंग भी सामान्य हरे रंग का है। फोटो में दिखाया गया बैंगनी रंग आर्टिफिशियल है। 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You