चीन की धरती से ललकारे ट्रंप- सब्र का इम्तिहान न ले सनकी किंग

You Are HereInternational
Thursday, November 09, 2017-10:52 AM

बीजिंगः एशिया दौरे पर निकले राष्ट्रपति  डोनाल्ड ट्रंप बुधवार को चीन पहुंचते ही उत्तर कोरिया के प्रति अपना रुख स्पष्ट कर दिया। चीन की धरती से सनकी किंग किम जोंग उन को ललकारते हुए ट्रंप ने कहा कि उत्तर कोरिया का दुष्ट नेतृत्व पूरी दुनिया के लिए खतरा है। उन्होंने  चेतावनी दी कि अमरीका की ताकत को वह कम नहीं आंके औऱ सब्र का इम्तिहान न ले।

बीजिंग में ट्रंप चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग के साथ उत्तर कोरिया के साथ ही व्यापार असंतुलन पर भी बात करेंगे। दोनों देशों के बीच आयात-निर्यात में भारी अंतर है जिसका अमरीका को वर्षों से खामियाजा उठाना पड़ रहा है। ट्रंप ने कहा, उत्तर कोरिया के नेतृत्व से हम कहना चाहते हैं कि उनके बनाए हथियार उन्हें सुरक्षित नहीं बना रहे बल्कि खतरे में डाल रहे हैं। उन्होंने उत्तर कोरिया की बुरी तस्वीर भी पेश की।
PunjabKesari
ट्रंप ने बताया कि वहां पर बड़ी संख्या में लोग बंधुआ मजदूरों वाली जिंदगी बसर कर रहे हैं और ज्यादातर अधिकारी गुलामों की तरह काम कर रहे हैं। ट्रंप ने दुनिया के देशों से आह्वान किया कि वे उत्तर कोरिया को अलग-थलग करें। उसे न किसी तरह का समर्थन दें और न ही उसे किसी वस्तु का निर्यात या आयात करें। हालांकि ट्रंप ने मंगलवार को दक्षिण कोरिया में उत्तर कोरियाई नेतृत्व के लिए बातचीत और आपसी समझौते का प्रस्ताव भी रखा था।

बुधवार को भी उत्तर कोरिया के बेहतर भविष्य के लिए आगे बढ़ने की बात कही लेकिन इसके लिए उत्तर कोरिया को पूरी तरह से परमाणु हथियार त्यागने होंगे और बैलेस्टिक मिसाइलों का परीक्षण बंद करना होगा। जबकि उत्तर कोरिया इन दोनों ही शर्तों पर अपनी नामंजूरी पहले ही जाहिर कर चुका है। इससे पहले दक्षिण कोरिया की संसद को संबोधित करते हुए ट्रंप ने कहा कि 'हम अमरीकी शहरों को खतरे में डालने के लिए तैयार नहीं हैं। हम यहां पर (दक्षिण कोरिया में) भी दोबारा बर्बादी की स्थिति पैदा नहीं होने देना चाहते। इसलिए अगर हमें लड़ना पड़ा तो लड़ेंगे।'

ट्रंप के दौरे के समय अमरीका के तीन विमानवाहक पोत कोरियाई प्रायद्वीप के नजदीक आ गए हैं। महीनों से युद्ध के आसन्न खतरे के बीच ऐसा पहली बार हुआ है। इतनी बड़ी अमरीकी नौसैनिक ताकत दुर्लभ मौकों पर ही एक जगह होती है। राष्ट्रपति ट्रंप उत्तर कोरिया सीमा से लगने वाले दक्षिण कोरिया के असैन्यीकृत क्षेत्र में जाना चाहते थे। लेकिन कोहरे के चलते वहां उनका हैलीकॉप्टर नहीं उतर सका। अमरीकी रक्षा मंत्री जिम मैटिस इस क्षेत्र का दौरा करके पहले ही वहां की स्थितियां को देख चुके थे।
 

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You