विकास करवाया पर विधायक की कड़ी परीक्षा तय

  • विकास करवाया पर विधायक की कड़ी परीक्षा तय
You Are HereNational
Wednesday, October 30, 2013-12:08 PM

 वेस्ट दिल्ली (राजन शर्मा): रोहिणी विधानसभा दिल्ली उप नगरीय इलाकों में शामिल है। यहां सवा सौ से ज्यादा ग्रुप हाऊसिंग सोसायटी में 55 हजार से अधिक मतदाता रहते हैं। 2 गांव नाहरपुर और राजापुर भी विधानसभा का हिस्सा है। मैट्रो स्टेशन से जुड़े होने के कारण यहां से अन्य इलाकों में पहुंचने की सुविधा बेहतर है। इसके साथ ही इलाके में योजनागत विकास व स्ट्रीट लाइटों और पार्कों को दुरूस्त किया गया है।  

बावजूद इसके क्षेत्र में श्मशान घाट, अस्पताल, कॉलेज और सभागार की कमी से लोग परेशान हैं। आने वाले चुनावों में अस्पताल, कॉलेज और सभागार के निर्माण की मांग विधायक को परेशान कर सकती है।  इलाके में आने वाले देहात क्षेत्र में बुनियादी सुविधाओं से आज भी लोग जूझ रहे हैं। 
 
पिछला इतिहास 
 
-2008 में परिसीमन के बाद अस्तित्व में आई रोहिणी विधानसभा
-पूरा क्षेत्र पुरानी विधानसभा बवाना और बादली का हिस्सा है।
-2008 के मुकाबले इस बार वोटर बढ़ गए है।

चुनावी फैक्टर
1. 27 प्रतिशत पंजाबी वोट व 21 प्रतिशत वैश्य वोट सत्ता की चाबी अपने पास रखते हंै। ऐसे में सीट पर उम्मीदवार किस समाज से है, यह देखना महत्वपूर्ण होगा।
2.  विधायक का लगातार 4 बार जीत कर विधानसभा पहुंचना जनता के सक्रियता दर्शता है जिसका फायदा उन्हें मिलना तय है।  
 
इन मुद्दों पर होंगे चुनाव
 
श्मशान की मांग :- क्षेत्र में शमशान भूमि न होने के कारण से लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ता है। ऐसे में अपने प्रियजनों के अंतिम संस्कार के लिए उन्हें दूसरे इलाकों की और रुख करना पड़ता है। 
अस्पताल का निर्माण :- क्षेत्र में कोई अस्पताल नहीं है जिससे लोग दूरदराज के अस्पतालों में जाते हंै। विधानसभा में अस्पताल की मांग लगातार उठती रही है। अस्पताल न बनने से लोगों में नाराजगी है। 
कॉलेज की मांग हुई तेज :- इलाके में कॉलेज नहीं है। ऐसे में युवाओं की यह पहली प्राथमिकता है। विधानसभा में प्रस्तावित कॉलेजों पर अभी तक काम शुरू नहीं हुआ है। ऐसे में युवओं की नाराजगी भारी पड़ सकती है।  
 
विपक्ष के वार 
 
वर्तमान विधायक ने अपने कार्यकाल में जनता के लिये कोई काम नहीं किया है। पार्किंग की समस्या जस की जस बनी हुई है। क्षेत्र में कॉलेजों की कमी है। बावजूद इसके प्रस्तावित कॉलेजों को भी अभी तक विधायक नहीं बनवा पाये हैं।                                             -विजेन्द्र जिंदल  

विधायक का जवाब 
नाहरपुर और राजापुर इलाकों में गंदगी से इंकार नहीं किया जा सकता है। लेकिन अन्य क्षेत्रों में सफाई के उचित इंतजाम किये गये हैं। पार्किंग के लिये तैयार की गई परियोजना पर काम चल रहा है। फंड की कमी के चलते क्षेत्र में प्रस्तावित कॉलेजों का निर्माण नहीं हो सका है। कानून व्यवस्था में क्षेत्र में कोई कमी नहीं है।                                                                                                 -जयभगवान अग्रवाल 
 
 

 
 

 

Edited by:Jeta

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You