चुनावी मुकाबले को दिलचस्प बना दिया है बागी उम्मीदवारों ने

  • चुनावी मुकाबले को दिलचस्प बना दिया है बागी उम्मीदवारों ने
You Are HereNational
Thursday, November 28, 2013-11:43 AM

हनुमानगढ़: हरियाणा से सटे राजस्थान के हनुमानगढ़ जिले की पांचों विधानसभा सीट पर कांग्रेस और भाजपा के बीच कांटे की टक्कर है और बागी उम्मीदवारों ने मुकाबले को और दिलचस्प बना दिया है। करीब पांच हजार साल पुरानी मोहनजोदड़ो हड़प्पा कालीन संस्कृति के गौरवमयी इतिहास की यादे समेटे जिले की हनुमानगढ, पीलीबंगा, संगरिया, नोहर और भादरा विधान सभाओं के चुनाव के नतीजे काफी हद तक बागी उम्मीदवारों पर टिके हुए है।    

इस वक्त हनुमानगढ जिले की पांच में से तीन सीट कांग्रेस के पास है, जबकि एक-एक सीट भाजपा और निर्दलीय के कब्जे में है। हनुमानगढ़ जिले में पंचायतीराज राज्य मंत्री विनोद कुमार, भाजपा के अभिषेक मटोरिया की प्रतिष्ठा दाव पर है। परिसीमन के बाद हनुमानगढ जिले में राजनीति परिदृश्य पूरी तरह से बदल गया है, जिसका असर अभी भी है।  

हनुमानगढ जिले के एक लाख 87 हजार 73 मतदाता आगामी एक दिसम्बर को एक हजार 91 मतदाता केन्द्रों पर उम्मीदवारों के राजनीतिक भाग्य ईवीएम मशीनों में बंद करेंगे। चुनावी रिकार्ड के अनुसार हनुमानगढ़ विधानसभा सीट पर जाट समाज का कब्जा रहा है और गैर जाट उम्मीदवार कभी इस सीट पर नहीं जीते है। मौजूदा चुनाव में हनुमानगढ़ सीट से कांग्रेस उम्मीदवार पंचायतीराज राज्य मंत्री विनोद कुमार और पूर्व मंत्री एवं भाजपा प्रत्याक्षी डा. रामप्रताप के बीच मुख्य मुकाबला है।
    
कांग्रेस और भाजपा उम्मीदवार चौथी बार चुनाव मैदान में है। मौजूदा विधायक विनोद कुमार हैट्रिक बनाने के फेर में है और भाजपा प्रत्याशी डा. रामप्रताप अपनी दो हार का बदला लेने के प्रयास में जुटे हुए है। कांग्रेस और भाजपा के जीत हार के मुकाबले को कांग्रेस के पूर्व जिला प्रमुख राजेंद्र मक्कासर एवं चिकित्सा प्रकोष्ठ के प्रदेश महामंत्री एवं जिला उपाध्यक्ष रहे डा. बी. के. चावला, भाजपा युवा मोर्चा में रहे बलराज दालेवालिया तथा जसपाल सिंह जैसे बागी उम्मीदवारों ने दिलचस्प बना दिया है।
 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You