. . . तो ऐसे पकड़ा गया नारायण साईं

  • . . . तो ऐसे पकड़ा गया नारायण साईं
You Are HereNational
Thursday, December 05, 2013-2:36 PM

नई दिल्ली: हरियाणा के एक गांव से मंगलवार रात गिरफ्तार किए गए स्वयंभू संत आसाराम के बेटे नारायण साई की खोज में दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा की चार टीमें लगाई गई थीं। अतिरिक्त पुलिस आयुक्त (अपराध शाखा) रविंद्र यादव न बताया, ‘‘हमें नारायण साई के वाहन चालक रमेश के पंजाब के लुधियाना में होने की सूचना मिली। हमने अंदाजा लगाया कि साई भी वहां हो सकता है, और हमने चार टीमें गठित की।’’

नारायण को छापा मारकर पकडऩे वाली टीम के एक अधिकारी ने बताया कि 30 पुलिसकर्मियों को चार टीमों में बांटा गया। चारों टीमें नौ पुलिस वाहनों में साई को गिरफ्तार करने के लिए लुधियाना के वभिन्न स्थानों पर छापा मारने के लिए निकलीं।

पुलिस उपायुक्त (अपराध शाखा) कुमार ज्ञानेश ने आईएएनएस को बताया, ‘‘पहली टीम रविवार को करीब अपराह्न दो बजे, दूसरी टीम मंगलवार को दोपहर बाद और तीसरी टीम मंगलवार को सायं छह बजे दिल्ली से रवाना हुई।’’

अधिकारी ने बताया कि उन्हें प्रारंभिक सूचना मिली कि साई लुधियाना के किसी गौशाला में पिछले 10 दिनों से छिपा हुआ है, लेकिन पुलिस के वहां पहुंचने से आधा घंटा पहले ही वह वहां से चला गया।

अधिकारी ने आगे बताया, ‘‘लगभग 200 किलोमीटर पीछा करने के बाद हमने मंगलवार रात करीब 10.15 बजे साई को उसके अनुयाई हनुमान, वाहन चालक रमेश और एक नाबालिग के साथ हरियाणा के पीपली गांव में एक पेट्रोल पंप के नजदीक गिरफ्तार कर लिया।’’

गिरफ्तारी के समय साई ने अपनी पहचान छिपाने के लिए आम पंजाबी युवकों की भांति केसरिया रंग की पगड़ी बांध रखी थी और पैंट, टी शर्ट के साथ जैकेट पहन रखी थी।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You