बाबरी विंध्वस की बरसी पर कहीं खुशी तो कहीं गम

  • बाबरी विंध्वस की बरसी पर कहीं खुशी तो कहीं गम
You Are HereNational
Thursday, December 05, 2013-10:33 PM

नई दिल्ली: अयोध्या स्थित विवादित ढ़ांचा गिराने जाने की 21वीं सालगिरह पर 6 दिसम्बर को जहां हिंदू संगठन इसे विजय दिवस के रूप में मनाने जा रहे हैं, वहीं मुस्लिम संगठन विरोध स्वरूप धरना प्रदर्शन करेंगे।

कुल मिलाकर बाबरी मस्जिद गिराए जाने की सालगिरह पर कहीं खुशी और कहीं गम का माहौल होगा। विश्व हिंदू परिषद की अगुवाई में एक दर्जन से अधिक संगठन दिल्ली में हवन यज्ञ सत्संग और हनुमान चालीसा का पाठ करेंगे। 50 स्थानों पर सायंकालीन महाहनुमान चालीसा का पाठ होगा। हर स्थान पर राम जन्म भूमि पर भव्य मंदिर निर्माण के लिए संकल्प सभाएं और 6 दिसम्बर 1992 को ढ़ांचा गिराये जाने की खुशी में आतिशबाजी की जाएगी।

 उधर, राष्ट्रवादी शिवसेना हर वर्ष की भांति इस वर्ष भी विजय दिवस के रूप में मनाएगी। राष्ट्रवादी शिवसेना व यूनाईटेड हिंदू फ्रंट के तत्वाधान में जंतर मंतर पर आयोजित किए जा रहे इस कार्यक्रम के दौरान धरना व विशाल भगवा मार्च किया जाएगा।

इसके अलावा अयोध्या में भगवान श्री राम का भव्य मंदिर निर्माण और सांप्रदायिक हिंसा अधिनियम को रोके जाने की मांग की जाएगी। इस मौके पर मांगों से संबंधित एक ज्ञापन राष्ट्रपति को भेट किया जाएगा। कार्यक्रम की अगुवाई शिवसेना प्रमुख जयभगवान गोयल करेंगे। इस मौके पर तमाम हिंदू संगठनों के नेता, कार्यकर्ता व भारी संख्या में श्री राम भक्त हिन्दूजन हिस्सा लेगें।

उधर, पापुलर फ्रंट आफ इंडिया के तत्वावधान में 6 दिसम्बर को विरोध के रूप में धरना प्रदर्शन किया जाएगा। जंतर मंतर पर अपराहन तीन बजे संगठन की ओर से बाबरी मस्जिद विंध्वस में शामिल भाजपा के वरिष्ठ नेताओं का पुतला फूंका जाएगा। 6 दिसंबर को लेकर दिल्ली पुलिस ने भी एहतियातन सख्ती बरती है। सभी संभावित स्थानों पर पुलिस का पहरा लगाया गया है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You