प्रदेश के विकास में न कोई पक्ष, न प्रतिपक्ष: राजे

  • प्रदेश के विकास में न कोई पक्ष, न  प्रतिपक्ष: राजे
You Are HereNational
Thursday, January 23, 2014-10:29 AM

जयपुर: राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने कहा कि वह राज्य के विकास के लिए विधानसभा में पक्ष और विपक्ष को साथ लेकर चलेंगी तथा लोकतंत्र की परम्पराओं को और मजबूत करेंगी। राजे ने सदन में नवनिर्वाचित विधानसभा अध्यक्ष कैलाश मेघवाल को बधाई देते हुए कहा कि प्रदेश के विकास में न कोई पक्ष है और न कोई प्रतिपक्ष, हम सबको जनता ने चुनकर भेजा है। उन्होंने कहा कि राजस्थान के नवनिर्माण के लिए खुले दिल से संवाद करेंगे।
 
उन्होंने कहा कि सदन लोकतंत्र का रथ है और अध्यक्ष उसके सारथी। लोकतंत्र रूपी इस रथ में पक्ष और विपक्ष 2 पहिए होते हैं जिनमें संतुलन बनाए रखने में विधानसभा अध्यक्ष की अहम भूमिका है। उन्होंने कहा कि विधानसभा का पवित्र भवन ईंट, गारे और पत्थरों का ही नहीं बल्कि प्रदेश के करोड़ों लोगों की भावनाओं का मंदिर है जहां बोले जाने वाला हर शब्द पवित्र और अटल सत्य होना चाहिए।
उन्होंने मेघवाल के विधानसभा और लोकसभा के लम्बे अनुभव और संसदीय पद्धति के ज्ञान की चर्चा करते हुए विश्वास व्यक्त किया कि उनके कार्यकाल में यह सदन नए आयाम स्थापित करेगा।

राजे ने आशा जताई कि सरल, सौम्य स्वभाव, बुद्धि चातुर्य और प्रभावशाली व्यक्तित्व के धनी मेघवाल निष्पक्षता के साथ सदन में गौरवशाली परम्पराओं के अनुरूप सभी सदस्यों के साथ न्याय करेंगे। संसदीय कार्य मंत्री राजेन्द्र राठौड़ ने भी मेघवाल को अध्यक्ष चुने जाने पर बधाई देते हुए कहा कि राजस्थान विधानसभा के इतिहास में एक नया गौरवशाली अध्याय जुड़ गया है।

उन्होंने विधानसभा अध्यक्ष के आसन को विक्रमादित्य का आसन बताते हुए कहा कि अध्यक्ष के मार्गदर्शन में हम सब मिलकर नए राजस्थान का निर्माण करेंगे।  इस अवसर पर कांग्रेस विधायक दल के नेता रामेश्वर डूडी ने मेघवाल को बधाई देते हुए कहा कि उन्हें सदन में उनसे निष्पक्ष कार्रवाई एवं न्याय मिलने की पूरी उम्मीद है। इसी तरह वरिष्ठ विधायक घनश्याम तिवाड़ी सहित कई विधायकों ने मेघवाल को बधाई दी।
 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You