जेठमलानी को भाजपा से निकालने पर सुनवाई मई में

  • जेठमलानी को भाजपा से निकालने पर सुनवाई मई में
You Are HereNational
Thursday, January 30, 2014-10:50 PM
 नई दिल्ली : राम जेठमलानी द्वारा अनुशासनहीनता के आरोप में भाजपा की प्राथमिक सदस्यता से उन्हें निलंबित करने के फैसले पर दिल्ली उच्च न्यायालय ने राम जेठमलानी की याचिका पर दो मई को सुनवाई करने का निश्चय किया है।  उच्च न्यायालय के संयुक्त रजिस्ट्रार को सूचित किया गया कि जेठमलानी की याचिका पर भाजपा संसदीय बोर्ड के सदस्यों को जारी नोटिस की तामील के बारे में रिपोर्ट अभी तक नहीं मिली है। 
 
 इससे पूर्व अदालत ने जेठमलानी की याचिका पर भाजपा और उसके संसदीय बोर्ड के सदस्यों से 30 जनवरी तक जवाब मांगा था।
 जेठमलानी के वकील अशोक अरोड़ा ने कहा कि प्रधानमंत्री पद के प्रत्याशी के लिए पार्टी में कई आकांक्षी हैं और चूंकि उनके मुवक्किल नरेन्द्र मोदी का समर्थन कर रहे हैं, इसलिए वे सफल नहीं हो सके और इससे परेशान थे। 
 
 अपने वाद में जेठमलानी ने अटल बिहारी वाजपेयी और भाजपा के प्रधानमंत्री प्रत्याशी मोदी को छोड़कर पार्टी संसदीय बोर्ड सदस्यों से 50 लाख रूपये की क्षतिपूर्ति मांगी है। जेठमलानी ने अनुरोध किया है कि बोर्ड के उनसे संबंधित निर्णय को अमान्य घोषित किया जाये।
गौरतलब है कि भाजपा नेतृत्व एवं पार्टी के तत्कालीन अध्यक्ष नितिन गडकरी के खिलाफ खुली बगावत करने के कारण जेठमलानी को पिछले साल 28 मई को छह साल के लिए  पार्टी से निष्कासित कर दिया गया था।
 

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You