जीवन का दृष्टिकोण हमारे वेद पुराण और परिवार: भागवत

  • जीवन का दृष्टिकोण हमारे वेद पुराण और परिवार: भागवत
You Are HereNational
Saturday, February 01, 2014-11:02 AM

जयपुर: राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के सरसंघ चालक मोहन भागवत ने वर्तमान शिक्षा पद्धति पर चिंता जताते हुए आज कहा कि अंग्रेजी हिंदी पर भारी पड़ रही है। भागवत ने यहां विशिष्ट पूर्व छात्र सम्मेलन में कहा कि हमारे जीवन का दृष्टिकोण हमारे वेद पुराण और परिवार है।

भागवत ने शिक्षा प्रणाली पर चिंता जताते हुए कहा कि आज शिक्षा समाज और परिवार में संस्कार सम्पन्न नहीं कर पा रही है। आज शिक्षा न तो स्व.गौरव प्रदान कर पा रही है न ही स्व.भाषा का गौरव। विद्यार्थयिों को मातृभाषा का अभिमान नहीं है। विद्यार्थी अंग्रेजी भाषा पर निर्भर हो गया है।  उन्होंने कहा कि संचार और देशाटन के लिए अन्य भाषा का ज्ञान आवश्यक है किन्तु  मातृभाषा का स्वाभिमान भी आवश्यक है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You